न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चीनी कारोबारी जैक मा चाहते हैं ओवरटाइम वर्ककल्चर, कहा, कर्मचारी 12 घंटे काम करने को तैयार रहें

अलीबाबा के सीईओ ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि उन्हें सुबह नौ बजे से रात नौ बजे तक और सप्ताह में छह दिन काम करना होगा.

41

Beijing : दुनिया के बड़े कारोबारियों में शामिल चीन के जैक मा ने ओवरटाइम वर्ककल्चर की वकालत की है. बता दें कि चीन के सबसे बड़े ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म अलीबाबा के सीईओ ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि उन्हें सुबह नौ बजे से रात नौ बजे तक और सप्ताह में छह दिन काम करना होगा. ऐसे समय में जबकि कई कंपनियां कर्मचारियों की क्षमता और रचनात्मकता बढ़ाने के लिए सप्ताह में चार ही दिन और अपेक्षाकृत कम घंटे काम कराने पर विचार कर रही हैं , तो अलीबाबा के सीईओ का फरमान चर्चा का विषय है ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार अलीबाबा की एक आतंरिक बैठक में जैक मा ने कहा कि उन्हें ऐसे लोगों की आवश्यकता नहीं है, जो आठ घंटे ही ऑफिस में बिताना चाहते हैं.

अलीबाबा के आधिकारिक विबो अकाउंट पर यह जानकारी दी गयी है.  उन्होंने 996 वर्क कल्चर (सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक और सप्ताह में 6 दिन) का जोरदार समर्थन किया किया है.  चीन के सबसे अमीर व्यक्ति ने कहा, 996 काम करने के योग्य होना एक बड़ा वरदान है.  यदि आप अलीबाबा ग्रुप जॉइन करना चाहते हैं तो आपको एक दिन में 12 घंटे काम करने के लिए तैयार रहना है.

जैक मा के इस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया भी आ रही है. विबो पोस्ट पर एक यूजर ने कॉमेंट किया, बकवास, यह भी नहीं बताया गया है कि कंपनी 996 शेड्यूल के लिए ओवरटाइम पेमेंट करती है या नहीं.  मुझे उम्मीद है कि लोग कानून के अनुसार चलेंगे ना कि अपने विचार से. एक अन्य ने कहा, बॉस लोग 996 जॉब करते हैं क्योंकि वे खुद के लिए और अपनी संपत्ति बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं.

Related Posts

70-80 रुपये किलो पहुंचा प्याज, स्टॉक की सीमा तय करने पर विचार कर रही है सरकार

प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों में मानसून की भारी बारिश से आपूर्ति प्रभावित हुई है जिसकी वजह से इसकी कीमतों में उछाल आया है.  

इसे भी पढ़ें- भाजपा नेता का पीएम मोदी को पत्र, सही चुनाव हुए तो आप 400 नहीं, 40 सीटों पर सिमट जायेंगे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: