JharkhandMain SliderRanchi

चाईबासा: पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधियों के बीच हिंसक झड़प में मारे गये 7 लोगों के शव बरामद

Chaibasa:  जिले के सोनुवा थाना क्षेत्र के बुरुगुलीकेरा में रविवार देर रात पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधियों के बीच हुई हिंसक झड़प में गुलीकेरा ग्राम पंचायत के उपमुखिया समेत सात ग्रामीणों की हत्या हुई थी. सभी सात लोगों के शव को पुलिस ने बुरुगुलीकेरा गांव से बरामद कर लिया है.

शव बरामद होने की पुष्टि करते हुए एडीजी अभियान मुरारी लाल मीणा ने बताया कि सभी सात लोगों के शव को बरामद कर लिया गया है. वहीं उन्होंने इन सात लोगों की हत्या के पीछे नक्सलियों के हाथ होने से इनकार कर दिया है.

advt

घटनास्थल पर पहुंची पुलिस की टीम

पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधियों के बीच हुए हिंसक झड़प में सात लोगों के हत्या की सूचना पुलिस को 21 जनवरी को मिली थी. सूचना मिलने के बाद पुलिस घटनास्‍थल के लिए रवाना हुई, लेकिन अतिनक्सल प्रभावित इलाका होने की वजह से 22 जनवरी को पुलिस पहुंची.

हालांकि, पुलिस ने साफ इनकार किया है कि यह नक्‍सली घटना है. शव बरामद करने के बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है.

मारे गये सभी ग्रामीण बुरुबुलीकेरा गांव के रहने वाले थे. जिन लोगों की हत्या की गयी उनके नाम-

  • जेम्स बुढ़ -उप मुखिया, बुरुबुलीकेरा गांव.
  • लोमा बुढ़- उम्र 25 साल.
  • जावरा बुढ़- उम्र 22 साल.
  • सोंगे टोपनो- उम्र 23 साल.
  • एतवा बुढ़- उम्र 24 साल.
  • निर्मल बुढ़- उम्र 25 साल.
  • बोनाम लोंगा- उम्र 35 साल.

इसे भी पढ़ें- #DelhiElection: केजरीवाल, सिसोदिया, विजेंदर समेत करीब 600 उम्मीदवार आजमा रहे अपनी किस्मत

17 जनवरी से ही हुई थी घटना की शुरुआत

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सोनुवा थाना क्षेत्र के बुरुगुलीकेरा गांव में पत्थलगड़ी समर्थकों के द्वारा गांव में घूम घूम कर कुछ दस्तावेज मांग कर जमा करने का काम पिछले 10-12 दिनों से चल रहा था.इसी दौरान बीते 17 जनवरी को पत्थलगड़ी विरोधियों का पत्थलगड़ी समर्थकों के साथ मारपीट की घटना हुई थी.

इस घटना में कई पत्थलगड़ी समर्थकों को चोटें आयी थी. बताया जा रहा है कि रविवार को पत्थलगड़ी समर्थक और पत्थलगड़ी विरोधियों के बीच फिर से हिंसक झड़प हुई जिनमें पत्थलगड़ी समर्थकों के द्वारा पत्थलगड़ी विरोधी 7 लोगों की हत्या कर दी गयी.

इसे भी पढ़ें- #CAA पर शाह की दो टूक पर प्रशांत किशोर का तंजः परवाह नहीं तो लागू करें CAA-NRC की क्रोनोलॉजी

पत्थलगड़ी समर्थकों ने रविवार को गांव में ग्रामीणों के साथ बैठक की थी

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पत्थलगड़ी समर्थकों द्वारा 19 जनवरी को गांव में ग्रामीणों के साथ बैठक की गयी थी. इस दौरान पत्थलगड़ी समर्थक इसका विरोध करनेवाले उपमुखिया जेम्स बूढ़ और अन्य छह लोगों को पीटने लगे. जिसके बाद उनके परिजन डरकर वहां से भाग गये. इस क्रम में पत्थलगड़ी समर्थक उपमुखिया जेम्स बूढ़ और अन्य छह लोगों को उठाकर जंगल की ओर ले गये.

19 जनवरी को उनके घर वापस नहीं लौटने पर 20 जनवरी को उपमुखिया जेम्स बूढ़ और अन्य छह लोगों के परिजन गुदड़ी थाना पहुंचे. उन्होंने मामले की जानकारी पुलिस को दी. पुलिस मामले की छानबीन में लगी ही थी कि 21 जनवरी की दोपहर को पुलिस को उपमुखिया जेम्स बूढ़ और अन्य छह लोगों की हत्या कर उनके शव जंगल में फेंके जाने की सूचना मिली.

इसे भी पढ़ें- दिल्ली में BJP से गठबंधन पर नाराज JDU नेता पवन वर्मा, CAA_NRC पर नीतीश कुमार से स्टैंड क्लीयर करने मांग की

अतिनक्सल प्रभावित क्षेत्र होने की वजह से देर से मिली पुलिस को जानकारी

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सोनुवा थाना क्षेत्र के बुरुगुलीकेरा में उपमुखिया समेत सात ग्रामीणों की हत्या रविवार देर रात पत्थलगड़ी समर्थकों के द्वारा कर दी गयी थी जिसके बाद सभी के शव को पास के जंगल में फेंक दिया गया. अतिनक्सल प्रभावित क्षेत्र होने की वजह से पुलिस को घटना की जानकारी काफी लेट से हुई.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: