न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देश में जुलाई में वाहन बिक्री में 19 सालों में सबसे बड़ी गिरावट, 15 हजार लोगों ने गंवाई नौकरी

मंदी की मार झेल रहे ऑटो सेक्टर को सरकार से राहत पैकेज की उम्मीद है. साथ ही जीएसटी दर घटाने की भी मांग की गयी है.

896

New Delhi: देश में जुलाई की वाहन बिक्री में 19 साल की 18.71 प्रतिशत की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गयी है. वाहन उद्योग पिछले दो-तीन महीने से भारी दबाव झेल रहा है.

इसके चलते क्षेत्र के 15 हजार लोग अपनी नौकरी गंवा चुके हैं और 10 लाख से अधिक नौकरियों पर खतरा मंडरा रहा है. भारतीय वाहन विनिर्माताओं के संगठन ‘सियाम’ की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक देश में कुल वाहन बिक्री जुलाई में 18.71 प्रतिशत गिरकर 18,25,148 वाहन रही, जो जुलाई 2018 में 22,45,223 वाहन थी.

इसे भी पढ़ेंःकश्मीर में पाबंदियां हटाने को लेकर SC का दखल से इनकार, कहा- सरकार को मिलना चाहिए समय

साल 2000 के बाद सबसे बड़ी गिरावट

यह दिसंबर 2000 के बाद वाहन बिक्री में आयी सबसे बड़ी गिरावट है. उस दौरान वाहन बाजार में 21.81 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी थी. इसी तरह यात्री वाहनों की घरेलू बिक्री जुलाई में भी करीब 19 साल की सबसे बड़ी गिरावट देखी गयी है.

यह लगातार नौवें महीने गिरी है. इस दौरान यात्री वाहनों की बिक्री 30.98 प्रतिशत घटकर 2,00,790 वाहन रही है, जो जुलाई 2018 में 2,90,931 वाहन थी. इससे पहले दिसंबर 2000 में यात्री वाहनों की बिक्री में 35.22 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी थी.

कार, टू-व्हीलर की बिक्री में गिरावट

सियाम के मुताबिक, समीक्षावधि में घरेलू बाजार में कार की बिक्री 35.95 प्रतिशत टूटकर 1,22,956 वाहन रही. जुलाई 2018 में 1,91,979 वाहन थी. इसी तरह मोटरसाइकिल की घरेलू बिक्री पिछले महीने 9,33,996 इकाई रही जो जुलाई 2018 की 11,51,324 इकाई बिक्री के मुकाबल 18.88 प्रतिशत कम है.

इसे भी पढ़ेंःवल्लभ भाई पटेल के घर पर उनकी सहमति से तैयार किया गया था आर्टिकल 370 का ड्राफ्ट

जुलाई में दोपहिया वाहनों की कुल बिक्री 15,11,692 वाहन रही. जुलाई 2018 में यह आंकड़ा 16.82 प्रतिशत अधिक यानी 18,17,406 वाहन था. कॉमर्शियल वाहनों की बिक्री में भी समीक्षावधि के दौरान गिरावट देखी गयी है. यह 25.71 प्रतिशत घटकर 56,866 वाहन रही जो पिछले साल जुलाई में 76,545 वाहन थी.

सरकार से राहत पैकेज की उम्मीद

सियाम के महानिदेशक विष्ण माथुर ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘आंकड़े दिखाते हैं कि सरकार से राहत पैकेज की कितनी जरूरत है. तत्काल कुछ किए जाने की जरूरत है. उद्योग बिक्री बढ़ाने के जो कर सकता है, कर रहा है. मेरा मत है कि यही समय है जब उद्योग को सरकार से मदद की जरूरत है. उसे राहत पैकेज लेकर आना चाहिए.’

Related Posts

मोदी सरकार खुफिया अफसरों के माध्यम से  महबूबा मुफ्ती  और उमर अब्दुल्ला का रुख भांप रही है!

केंद्र सरकार  घाटी में शांति और सद्भाव स्थापित करने के मकसद से राज्य दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को साधने की कोशिश में जुटी है.

SMILE

उन्होंने कहा उद्योग को वापस वृद्धि पर लाने और बिक्री में गिरावट को रोकने के लिए राहत पैकेज की बहुत जरूरत है.

दो-तीन महीने में 15 हजार लोग हुए बेरोजगार

माथूर ने कहा कि वाहन विनिर्माण कंपनियों में पिछले दो से तीन महीनों में करीब 15 हजार नौकरियां जा चुकी हैं. इसमें अधिकतर नौकरियां अस्थायी या संविदा कर्मचारियों की थीं. इसके अलावा वाहन कलपुर्जा विनिर्माण क्षेत्र में 10 लाख से अधिक नौकरियों पर खतरा मंडरा रहा है.

माथुर ने कहा कि गिरती बिक्री के कारण, करीब 300 डीलर अपने स्टोर बंद करने पर मजबूर हैं, जिसके चलते करीब दो लाख नौकरियां जा सकती हैं. वाहन क्षेत्र के मौजूदा कठिन हालत के बारे में माथुर ने कहा कि इससे पहले क्षेत्र ने ऐसा दौर 2008-09 और 2013-14 के दौरान देखा था.

माथुर के मुताबिक इस सभी वाहन श्रेणियों में जुलाई में गिरावट दर्ज की गयी है. तत्काल सरकारी मदद के बारे में माथुर ने कहा कि उन्हें सरकार से राहत पैकेज मिलने की उम्मीद है. हालांकि यह अभी साफ नहीं है कि इसमें क्या-क्या अवयव शामिल होंगे.

जीएसटी में कटौती की अपील

वाहन उद्योग ने सरकार से वाहनों पर जीएसटी दरों में कटौती करने और पुराने वाहनों को कबाड़ में भेजने की नीति लाने के लिए कहा है. साथ ही मांग है कि गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी क्षेत्र का पुनरोद्धार किया जाये. क्योंकि वाहनों की बिक्री बहुत हद तक वित्त की उपलब्धता पर निर्भर करती है. साथ ही उसने सरकार से वाहनों के पंजीकरण शुल्क में प्रस्तावित वृद्धि को भी फिलहाल टालने के लिए कहा है.

माथुर ने कहा कि यदि वाहन उद्योग वृद्धि नीचे जायेगा तो जीडीपी वृद्ध भी गिरेगी. विनिर्माण जीडीपी में वाहन क्षेत्र का योगदान लगभग आधे के बराबर है. वाहन क्षेत्र में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष तौर पर 3.7 करोड़ लोगों को रोजगार मिला है.

यात्री वाहन श्रेणी में देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की बिक्री जुलाई में 36.71 प्रतिशत गिरकर 96,478 कार रही है. हुंदै की बिक्री 10.28 प्रतिशत की गिरावट के साथ 39,010 वाहन रही.

दोपहिया वाहन श्रेणी की सबसे बड़ी कंपनी हीरो मोटो कॉर्प की बिक्री भी जुलाई में 22.9 प्रतिशत गिरकर वाहन 5,11,374 वाहन रही है.

इसे भी पढ़ेंःपहले मुझे थाना लेकर गये और एंबुलेस में बैठाया, उतरते ही जबरन हाथ में पकड़ा दी थाली

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: