BusinessLead NewsSci & Tech

नीलामी में आयी 77,815 करोड़ रुपये की बोलियां, जियो ने खरीदा 57,122 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम

New Delhi : भारत में पांच साल में पहली स्पेक्ट्रम नीलामी मंगलवार को संपन्न हो गयी इस दौरान विभिन्न दूरसंचार कंपनियों ने 77,814.80 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम खरीदा. मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने सबसे अधिक स्पेक्ट्रम खरीदा. वहीं एयरटेल ने 18,699 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम हासिल किया.

सोमवार को 2,250 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी शुरू हुई थी. इसका आरक्षित मूल्य करीब चार लाख करोड़ रुपये था. दूरसंचार सचिव अंशु प्रकाश ने कहा कि दो दिन की नीलामी में 77,814.80 करोड़ रुपये का 855.60 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम खरीदा गया.

रिलायंस जियो ने 57,122.65 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम खरीदा. वहीं वोडाफोन आइडिया लि. ने 1,993.40 करोड़ रुपये की रेडियो तरंगों के लिए बोली लगायी.

नीलामी के दौरान 800 मेगाहर्ट्ज, 900 मेगाहर्ट्ज, 1800 मेगाहर्ट्ज, 2100 मेगाहर्ट्ज और 2300 मेगाहर्ट्ज बैंड में बोलियां आयीं. लेकिन 700 और 2500 मेगाहर्ट्ज में कोई बोली नहीं मिली. नीलामी के लिए पेश कुल स्पेक्ट्रम में से 700 मेगाहर्ट्ज बैंड के स्पेक्ट्रम का हिस्सा एक-तिहाई था. 2016 की नीलामी में यह स्पेक्ट्रम बिल्कुल नहीं बिक पाया था.

विश्लेषकों ने कहा कि गीगाहर्ट्ज बैंड से नीचे अन्य स्पेक्ट्रम कम कीमत पर उपलब्ध है. ऐसे में ज्यादातर ऑपरेटर नये स्पेक्ट्रम में निवेश नहीं करना चाहते हैं, क्योंकि ऐसे में उन्हें उपकरणों पर अतिरिक्त खर्च करना होगा.

इसे भी पढ़ें : 7323.24 करोड़ का द्वितीय अनुपुरक बजट पारित

नीलामी में खरीदे गये स्पेक्ट्रम से 4जी कवरेज बढ़ाने में मदद मिलेगी : वोडाफोन आइडिया

निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया लि. (वीआईएल) ने कहा है कि उसने नीलामी में पांच सर्किलों में जो स्पेक्ट्रम खरीदा है उससे 4जी कवरेज और क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी. कंपनी ने कहा कि इससे वह अपने ग्राहकों को ‘शानदार डिजिटल अनुभव’ उपलब्ध करा पायेगी.

एयरटेल ने नीलामी में 18,699 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम हासिल किया

दूरसंचार क्षेत्र की निजी कंपनी भारती एयरटेल ने मंगलवार को कहा कि स्पेक्ट्रम की ताजा नीलामी में उसने 18,699 करोड़ रुपये की रेडियोतरंगों का अधिग्रहण किया है. कंपनी ने एक बयान में यह जानकारी दी है.

उसने कहा है कि कंपनी ने 355.45 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम, मिड बैंड और 2300 मेगाहट्र्ज बैंड का अधिग्रहण किया है। इससे कंपनी को देश में सबसे मजबूत स्पेक्ट्रम होल्डिंग प्राप्त हो गयी है. कंपनी ने कहा है कि इसके चलते उसे भविष्य में 5जी सेवायें उपलब्ध कराने में सफलता मिलेगी.

इसे भी पढ़ें : ममता को एक और झटका, तृणमूल के प्रवक्ता जितेंद्र तिवारी भाजपा में शामिल

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: