National

#President’s_Supper में नहीं जाऊंगा, विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, सोनिया गांधी को भोज का निमंत्रण क्यों नहीं दिया

NewDelhi : लोकसभा में विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी राष्ट्रपति भवन में भोज के लिए नहीं जायेंगे. जान लें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए राष्ट्रपति भवन में 25 फरवरी को भोज का आयोजन किया है. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भोज का निमंत्रण नहीं दिया गया है. इसके बाद लोकसभा में विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी वहां जाने से इनकार कर दिया.

इसे भी पढ़ें :#Wajahat_Habibullah ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की रिपोर्ट, कहा, शाहीन बाग में शांतिपूर्ण प्रदर्शन, पुलिस ने बेवजह रास्ता बंद किया
ram janam hospital
Catalyst IAS

मोदी के शब्दकोश में लोकतंत्र के मायने बदल गये हैं

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

कांग्रेस अध्यक्ष को नहीं बुलाये जाने पर शनिवार, 22 फरवरी को कांग्रेस नेता अधीर रंजन ने कहा, हमारी पार्टी की नेता सोनिया गांधी को आमंत्रित नहीं किया गया है. राष्ट्रपति ट्रंप और भारतीय प्रधानमंत्री मोदी दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. लोकतंत्र के विभिन्न निहितार्थ हैं, जिनमें से एक शालीनता और शिष्टाचार है. जब मोदी ने अमेरिका का दौरा किया तब दोनों रिपब्लिकन और डेमोक्रेट हाउडी मोदी कार्यक्रम में मंच पर मौजूद थे.

अधीर रंजन ने संडे एक्सप्रेस से कहा, मोदी के शब्दकोश में लोकतंत्र के मायने बदल गये हैं. कांग्रेस 134 साल पुरानी लोकतांत्रिक पार्टी है, और हमारे नेता को सभी लोकतांत्रिक देशों द्वारा मान्यता प्राप्त है. मगर उन्हें आमंत्रित नहीं किया गया. इसका कांग्रेस से सीधा संबंध है. इसे मैं स्वीकार नहीं कर सकता, इसलिए निमंत्रण को अस्वीकार करता हूं.

इसे भी पढ़ें :#MannKiBaat में पीएम मोदी ने की लिट्टी-चोखा की तारीफ, काम्या-भागीरथी अम्मा और देश की महिलाओं को दी बधाई

यह कार्यक्रम राष्ट्रपति ट्रंप उत्सव के अलावा कुछ भी नहीं

उन्होंने कहा, सैकड़ों करोड़ रुपए बर्बाद हो रहे हैं. यह कार्यक्रम राष्ट्रपति ट्रंप उत्सव के अलावा कुछ भी नहीं है. व्यापार सौदे के बारे में वो पहले ही अपनी राय बता चुके हैं. ट्रंप विक्रेता के रूप में दिखाई देंगे और मोदी के एक खरीदार के रूप में. इसका परिणाम क्या है… भारत क्या हासिल करेगा… जब पूरा देश रोजगार और किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य के लिए संघर्ष कर रहा है.

इसे भी पढ़ें : ‘‘नमस्ते ट्रंप’’ कहने के लिए तैयार है अहमदाबाद, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button