HazaribaghJharkhand

आरोप : बड़कागांव #BDO ने घर में काम करने वाली बच्ची के सिर के बाल उखाड़े, आयरन से जलाया, रॉड से दागा

Hazaribag : बड़कागांव ब्लॉक के बीडीओ राकेश कुमार पर अपने घर में काम करने वाली नाबालिग लड़की के ऊपर 200 रुपये की  चोरी का आरोप लगाकर पीटने का आरोप लगा है.

यह आरोप नाबालिग के परिजनों के द्वारा लगाया गया है. परिजनों का आरोप है कि बीडीओ ने पिटाई करने के बाद बच्ची को 15 दिन तक घर में बंद करके रखा. चार दिन पहले बेहोशी की अवस्था में बड़कागांव ब्लॉक मोड़ के पास फेंक कर फरार हो गये.

advt

इसे भी पढ़ें : हाल-ए-रिनपास: 5 डॉक्टरों के भरोसे 300 मरीजों की ओपीडी, एक मरीज को दे पाते हैं सिर्फ 7 मिनट

4 महीने पहले बीडीओ के यहां काम करने गयी थी नाबालिग

बच्ची के परिजनों के अनुसार 4 महीना पहले वह बीडीओ राकेश कुमार के घर पर काम करने के लिए गयी थी. विनय कुमार मेहता नामक व्यक्ति के द्वारा उसे 3500 रुपये महीना की सैलरी पर रखा गया था.

इसी दौरान करमा पूजा के दिन 200 रुपये चोरी का आरोप लगाकर बीडीओ राकेश कुमार और उनकी पत्नी ने बच्ची की जमकर पिटाई की. जी नहीं भरा तो बच्ची के सिर के बाल उखाड़ दिये.

उसके बाद गरम आयरन कर सीना पर रखकर जलाया गया. उसके बाद भी मन नहीं भरा तो बच्ची को रॉड गर्म कर चेहरे में कई निशान बना दिये जिसके बाद बच्चे बेहोश हो गयी.

adv

बच्ची को बेहोश देखकर बीडीओ और उनकी पत्नी ने अपने घर में ही छुपा दिया और बाहर से दवाई लाकर देने लगे. जब बच्ची की स्थिति बिगड़ने लगी तो चार दिन पहले बड़कागांव के ब्लॉक मोड़ के पास फेंक कर फरार हो गये.

आसपास के लोगों ने बच्ची के परिजनों का पता करके नाबालिग बच्ची को उसके परिजनों को सौप दिया.

इसे भी पढ़ें : #GovtTeachers को मिलेंगे तीन चांस, अगर बच्चे नहीं हुए #Up_to_the_mark तो जायेगी नौकरी

एक लाख रुपये और घर देने की बात कहकर मुंह बंद रखने को कहा  

नाबालिग बच्ची के परिजनों के अनुसार जब इस बात की जानकारी बीडीओ राकेश कुमार हुई तो उनकी पत्नी ने बच्ची को लाने वाला एजेंट विनोद कुमार मेहता के घर जाकर बच्ची के परिजनों को एक लाख रुपया और घर देने की बात कही और किसी से यह बात नहीं करने की आग्रह किया.

बाद में बच्ची की जब स्थिति खराब देखकर परिजनों ने सदर अस्पताल में अपनी सारी जानकारी मीडिया और चाइल्ड सोसायटी के लोगों को दी.

थाना प्रभारी बोले, जानकारी नहीं 

इस मामले में जब बड़कागांव थाना प्रभारी से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि हमें इस घटना की कोई जानकारी नहीं है.

इसके अलावा इस मामले को लेकर बड़कागांव बीडीओ राकेश कुमार से भी संपर्क करने की कोशिश की गयी लेकिन उन्होंने कॉल नहीं उठाया.

इसे भी पढ़ें : सरकार के दुलारे ये #IAS अधिकारी, जो करीब चार साल से जमे हैं एक ही पद पर

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button