न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

16 वर्षीय #GretaThunberg का पर्यावरण पुरस्कार लेने से इनकार, कहा, सत्ता में बैठे लोग  #Science का अनुसरण करें

लाखों लोग युवा जलवायु कार्यकर्ता 16 वर्षीय थनबर्ग के फ्राइडे फॉर फ्यूचर अभियान के पक्ष में आ चुके हैं.

154

Stockholm : स्वीडन निवासी  जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा एक पर्यावरण पुरस्कार लेने  से इनकार कर दिये जाने की खबर है.  ग्रेटा थनबर्ग ने कहा कि जलवायु अभियान में आवश्यकता इस बात की है कि सत्ता में बैठे लोग पुरस्कार देने के बजाय विज्ञान का अनुसरण शुरू करें.  जान लें कि लाखों लोग युवा जलवायु कार्यकर्ता 16 वर्षीय थनबर्ग के फ्राइडे फॉर फ्यूचर अभियान के पक्ष में आ चुके हैं.

थनबर्ग उस समय  चर्चा में आयी थीं जब अगस्त 2018 में उन्होंने हर शुक्रवार स्वीडन की संसद के बाहर धरना देना शुरू कर दिया था. वह हाथों में एक तख्ती लेकर वहां रहती थीं जिस पर लिखा होता था जलवायु की खातिर स्कूल की हड़ताल.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें:  #SC के अगले #CJI जस्टिस बोबडे ने कहा, देश में कुछ लोगों को बोलने की पूरी आजादी, कुछ हो जाते हैं हमलों के शिकार

Related Posts

गृह मंत्री #Amit_Shah अरुणाचल यात्रा पर, चीन ने जताई आपत्ति, कहा, यह क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लंघन है

शाह ने अरुणाचल प्रदेश में कहा कि Article 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के बाद यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि अनुच्छेद 371 भी खत्म किया जायेगा, लेकिन ऐसा कभी नहीं होगा.

नॉर्डिक परिषद ने स्टॉकहोम में आयोजित समारोह में पर्यावरण पुरस्कार के लिए चुना था

ग्रेटा को क्षेत्रीय संस्था नॉर्डिक परिषद द्वारा  स्टॉकहोम में आयोजित समारोह में  पर्यावरण पुरस्कार के लिए चुना गया था. खबरों के अनुसार ग्रेटा थनबर्ग के प्रयासों के लिए उन्हें स्वीडन और नॉर्वे दोनों की ओर से नामित किया गया था. उन्होंने संगठन का सालाना पर्यावरण पुरस्कार जीता था. टीटी समाचार एजेंसी ने बताया कि पुरस्कार की घोषणा के बाद ग्रेटा थनबर्ग के एक प्रतिनिधि ने दर्शकों को बताया कि ग्रेटा यह पुरस्कार और 52,000 डॉलर की राशि स्वीकार नहीं करेंगी.

उन्होंने इंस्टाग्राम पर अपने इस फैसले को साझा किया. एक पोस्ट में उन्होंने लिखा, जलवायु अभियान को और पुरस्कारों की आवश्यकता नहीं है. जरूरत इस बात की है कि सत्ता में बैठे लोग वर्तमान में उपलब्ध सर्वश्रेष्ठ विज्ञान का अनुसरण करना शुरू कर दें. उन्होंने यह सम्मान देने के लिए नॉर्डिक परिषद का आभार व्यक्त किया लेकिन जलवायु से जुड़े मुद्दों पर अपनी बात पर कायम नहीं रहने के लिए नॉर्डिक देशों की आलोचना भी की.

इसे भी पढ़ें: #UN ने कहा, #Kashmir के हालात पर दायर याचिकाओं पर  #SC में सुनवाई की गति धीमी

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like