न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह करेंगे ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का उद्घाटन

33

Ranchi: ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट 2018 का उद्घाटन केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह करेंगे. ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट-2018, 29 एवं 30 नवंबर को होटवार के खेल गांव में आयोजित किया जायेगा. इसमें ट्यूनीशिया, चीन, इजरायल, फिलिपिंस, मंगोलिया और मोरक्को देश के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे. कार्यक्रम में राज्य के 10 हजार किसान हिस्सा लेंगे. देश-विदेश के 1800 डेलिगेट्स ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है. कृषि विभाग की सचिव पूजा सिंघल, उद्योग सचिव के रवि कुमार, रांची उपायुक्त राय महिमापत रे और वरीय पुलिस अधीक्षक अनीश गुप्ता ने संयुक्त रूप से सूचना भवन सभागार में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस संबंध में जानकारी दी.

सभी 24 जिलों के पवेलियन बनेंगे

पूजा सिंघल ने बताया कि राज्य में पहली बार एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का आयोजन किया जा रहा है. अब तक 18 डेलिगेट्स ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है. इसमें इजराइल गए किसान भी शामिल होंगे. समिट के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में माननीय राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू शामिल होंगी. राज्य से लगभग 10 हजार किसान शामिल होंगे. राज्य के सभी 24 जिलों के पवेलियन बनाए जाएंगे. दूसरे पवेलियन में अन्य राज्यों के पवेलियन बनाए जाएंगे. इस दौरान आउटडोर एग्जिबिशन में कृषि यंत्रों और अन्य तकनीक की प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी.

40 हजार वर्गफीट में लगेगी प्रदर्शनी

पूजा सिंघल ने बताया कि 40 हजार वर्ग फीट में प्रदर्शनी लगाई जाएगी. उद्घाटन समारोह में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे. दूर से आने वाले राज्य के किसान 28 तारीख से ही पहुंचने लगेंगे. किसानों के ठहरने के लिए अच्छी व्यवस्था की गई है. कृषि सचिव ने बताया कि इस दौरान 47 ओकटोराल सेमिनार का भी आयोजन किया जाएगा. जिसमें ऑर्गेनिक खेती और कृषि यंत्र समेत अन्य विषयों पर चर्चा होगी. 30 नवंबर को विश्व बैंक के द्वारा टेक्निकल सत्र का भी आयोजन किया जाएगा.

आयोजन का केंद्र देश मोरक्को होगा

उद्योग सचिव के रवि कुमार ने जानकारी दी कि दो दिवसीय सम्मेलन के दौरान अंतरराष्ट्रीय सत्र भी होंगे. जिसमें ट्यूनीशिया, चीन, इजराइल, फिलिपिंस और मंगोलिया जैसे देश सहयोगी देश के रूप में शामिल होंगे. इसमें आयोजन का केंद्र मोरक्को देश है. इस आयोजन में सहयोगी देश के सत्र भी होंगे, जिन्हें कृषि और खाद्य क्षेत्र में सहयोग के संभावित क्षेत्रों पर चर्चा करने के लिए बुलाया गया है. इस सत्र में सहयोगी देशों से आए हुए प्रतिनिधिमंडल शामिल होंगे.

यह भी लेंगे भाग

इस समिट में शिक्षाविद्, कृषि चिंतक, शोधकर्ता, कृषि संस्थान और विश्वविद्यालय, किसान समूह, कृषि व्यवसाय से संबंधित कंपनियां.

इसे भी पढ़ेंःगढ़वा की बेटी के सवालों का CM के पास नहीं जवाब, पूछा- छह साल दौड़े, वाजिब पैसा नहीं मिला

इसे भी पढ़ेंःएक ही झटके में काट दिया गैर मजरूआ भूमि के 72 वर्ष का लगान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: