National

उद्धव सरकार की किरकिरी, बॉम्‍बे हाई कोर्ट का आदेश, कंगना का ऑफिस गलत इरादे से तोड़ा, बीएमसी मुआवजा दे…

कोर्ट ने कंगना को कितना मुआवजा दिया जाये, इसके लिए एक वैल्युअर की नियुक्ति की है. वैल्युअर नुकसान का अनुमान लगायेगा इसके बाद मुआवजे की राशि तय की जायेगी

 Mumbai : कंगना रनौत का मुंबई ऑफिस तोड़ने के मामले में उद्धव सरकार की किरकिरी हो गयी है. जान लें कि बॉम्बे हाई कोर्ट ने बीएमसी के खिलाफ फैसला देते हुए कहा कि बीएमसी की इस मामले में नीयत खराब थी. बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा है कि बीएमसी को कंगना को मुआवजा देना होगा.

कोर्ट ने कंगना को कितना मुआवजा दिया जाये, इसके लिए एक वैल्युअर की नियुक्ति की है. वैल्युअर नुकसान का अनुमान लगायेगा इसके बाद मुआवजे की राशि तय की जायेगी. कंगना ने इस फैसले के बाद ट्वीट करके खुशी जताई है.

इसे भी पढ़ें : किसान आंदोलन : दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर झड़प, पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े , किसानों ने पत्थर चलाये…

कंगना ने बॉम्बे हाई कोर्ट में बीएमसी के खिलाफ याचिका दी थी

जान लें कि सितंबर में बीएमसी ने कंगना रनौत के मुंबई स्थित ऑफिस में जमकर तोड़फोड़ की थी. कंगना ने बॉम्बे हाई कोर्ट में बीएमसी के खिलाफ याचिका दी थी और मुआवजे की मांग की थी. अब कोर्ट ने इस मामले में कंगना के पक्ष में फैसला दिया है. कोर्ट का कहना है कि बीएमएसी ने खराब नीयत से यह कदम उठाया था और कंगना का ऑफिस गलत इरादे से तोड़ा   गया. कोर्ट ने कहा कि यह नागरिकों के आधिकार के भी विरुद्ध था.

इसे भी पढ़ें :स्टैन स्वामी ने कोर्ट से स्ट्रॉ, सिपर और गर्म कपड़ों की याचना की, अब चार दिसंबर को कोर्ट सुनेगा मामला

 कंगना ने 2 करोड़ के मुआवजे की मांग की थी

बता दें कि कंगना ने 2 करोड़ के मुआवजे की मांग की थी. कंगना ने लिखा है, जब कोई सरकार के खिलाफ खड़ा होता है औऱ जीतता है तो जीत उस इंसान की नहीं बल्कि लोकतंत्र की होती है. उन सभी का शुक्रिया जिन्होंने मुझे हौसला दिया, उनका भी शुक्रिया जो मेरे टूटे सपनों पर हंसे थे. आपके विलन बनने पर ही मैं हीरो बन सकी.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: