न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टीपीसी के गिरफ्तार उग्रवादियों ने खोले राज, कहा : हुसैनाबाद-पांडू बार्डर पर लेवी वसूलता है संगठन 

152

Palamu : पलामू पुलिस और टीपीसी उग्रवादियों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार दोनों उग्रवादियों की पहचान कर ली गयी है. मालूम हो कि रविवार की पूर्वाहन में हुसैनाबाद और पांडू थाना के सीमावर्ती क्षेत्र में चमरदाहा में करीब आधे घंटे तक पुलिस और टीपीसी उग्रवादियों के बीच मुठभेड़ हुई थी. मुठभेड़ के दौरान पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण कई उग्रवादी मौके से भाग खड़े हुए थे, जबकि दो पकड़े गये थे.

इसे भी पढ़ेंः 18 करोड़ का स्लॉटर हाउस पड़ा है बंद, अब मृत मवेशियों का शरीर होगा डिस्पोज

दोनों उग्रवादी बिहार के निवासी, एक एनटीपीसी में रहा है ठेकेदार  

हुसैनाबाद के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी विजय प्रसाद ने बताया कि मुठभेड़ के बाद घटनास्थल और आस-पास के क्षेत्रों में तलाशी अभियान चलाने पर दो उग्रवादियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. उनकी पहचान बिहार राज्य के रोहतास जिला अंतर्गत इंद्रपुरी थाना क्षेत्र के मनिपुर-बस्तीपुर निवासी नरेंद्र शर्मा और तिलौथू थाना क्षेत्र के हुरका निवासी मनीष कुमार के रूप में हुई है. इनके पास से पुलिस ने मोबाइल समेत अन्य सामान बरामद किये हैं. मनीष एनटीपीसी में ठेकेदारी कर चुका है. दोनों बिहार से आकर झारखंड में टीपीसी उग्रवादियों के लिए लेवी वसूलने का काम करते थे. उन्होंने कहा कि मुठभेड़ के दौरान पुलिस द्वारा लगभग 50 फायर किया गया, जबकि टीपीसी उग्रवादियों द्वारा लगभग 100 से अधिक फायर किया गया है. उन्होंने कहा कि मुठभेड़ स्थल पांडू थाना का है, जहां दोनों टीपीसी उग्रवादियों के खिलाफ मामला दर्ज किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः टीडीएस का ब्योरा नहीं देने की वजह से 22,854 राज्य कर्मियों को नहीं मिल पाया है फरवरी माह का वेतन

10-12 की संख्या है टीपीसी उग्रवादियों की   

एसडीपीओ ने बताया कि हुसैनाबाद थाना के महुदंड और पांडू थाना के सीमावर्ती इलाके में टीपीसी का दस्ता विकास कार्यों में लेवी वसूलने के मामले में काफी सक्रिय है. टीपीसी के जोनल कमांडर गिरेंद्र गंझू उर्फ गिरेंद्र जी अपने सहयोगियों पंकज गंझू, जयंत एवं अन्य 10-12 लोगों के साथ विकास कार्य में लगे ठेकेदारों से लेवी लेने में लगा है.

Related Posts

पलामू : नक्सलियों के गढ़ काला पहाड़ में पहुंचा प्रशासन, सुनी ग्रामीणों की फरियाद, 402 मामलों का निष्पादन किया

काला पहाड़ कोई पहाड़ी इलाका नहीं, बल्कि पंचायत का नाम है. यहां छह गांव हैं. सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए आज प्रशासन इस उग्रवाद प्रभावित इलाके में पहुंचा.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ेंः कश्मीरः सरकारी विज्ञापन बंद करने के विरोध में अखबारों ने पहला पन्ना छोड़ा खाली

उग्रवादियों के होने की पुलिस को मिली थी गुप्त सूचना 

पांडू-हुसैनाबाद के सीमावर्ती इलाके में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने में फिराक में जमे टीपीसी उग्रवादियों के जमावड़े की सूचना मिली थी. सूचना पर विवार को महुदंड पिकेट के सहायक अवर निरीक्षक राजकिशोर महतो के साथ ओपी पुलिस उक्त क्षेत्र में छापामारी अभियान चला रही थी. इसी दौरान पुलिस को देख नक्सलियों ने गोली चलानी शुरू कर दी. पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलायी. घटना स्थल से पुलिस ने नक्सलियों के द्वारा छोड़े गये वर्दी, पिठू, मोबाइल, चार्जर और अन्य सामान समेत एक मोटरसाइकिल भी बरामद किया है.

Sport House

इसे भी पढ़ें : विपक्षी गठबंधन संयुक्त कैंपेन कर लोकसभा की 14 सीटों पर भाजपा को देगा शिकास्तः बाबूलाल मरांडी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like