Lead NewsNationalNEWS

Tokyo Olympics: हॉकी में भारत की बेटियों ने भी रचा इतिहास, पहली बार सेमीफाइनल में पहुंची

एक दिन पूर्व 49 वर्षों के बाद पुरुषों की टीम सेमीफाइल में जगह बना चुकी है

New Delhi: टोक्यो ओलंपिक में पुरुषों के बाद भारत की महिला हॉकी खिलाड़ियों ने भी इतिहास रच दिया है. भारत की महिला हॉकी टीम पहली बार ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंच गई है.

भारतीय टीम ने क्वार्टर फाइनल में ओलंपिक चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हरा दिया है. भारत की ओर से मुकाबले के 22वें मिनट में गुरजीत कौर ने गोल दागा और यह बढ़त अंत तक बरकरार रही. एक दिन पूर्व भारत की पुरुष हॉकी टीम ने 49 वर्षों के बाद ओलंपिक के सेमीफाइल मुकाबले में जगह बनाई है.

advt

इसे भी पढ़ेंःJharkhand Corona Update: जिले-जिले में सक्रिय मरीज, मगर- संख्या में कमी

adv

इस मुकाबले में दोनों टीमों की ओर से जोरदार मुकाबला देखने को मिला. हालांकि भारतीय डिफेंडर्स के आगे ऑस्ट्रेलिया की नहीं चली. भारत ने खेल के 9वें मिनट में गोल करने का मौका बनाया था, लेकिन रानी रामपाल चूक गईं. वंदना कटारिया के पास पर रानी ने स्ट्रोक लिया, लेकिन बॉल गोलपोस्ट से जाकर लगी.

भारतीय टीम ने दूसरे क्वार्टर में कमाल की हॉकी खेली. तीसरे क्वार्टर में ऑस्ट्रेलिया ने शानदार खेल दिखाया. उसे इस क्वार्टर में दो पेनल्टी कॉर्नर मिले, हालांकि वे गोल करने में नाकाम रहे. सेमीफाइनल में भारत का सामना चार अगस्त को अर्जेंटीना से होगा, जिसने जर्मनी को 3-0 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई है.  इस प्रदर्शन से 41 साल में पहली बार महिला हॉकी में पदक की उम्मीद जगी है.

 

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने टोक्यो ओलंपिक में भारत की महिला हॉकी टीम द्वारा ऑस्ट्रेलिया को परास्त कर सेमीफाइनल में प्रवेश करने पर बधाई और शुभकामनाएं दी है. मुख्यमंत्री ने कहा ओलंपिक में पहली बार सेमीफाइनल में प्रवेश कर देश की बेटियों ने इतिहास रच दिया.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: