National

आसनसोल हिंसा पर टीएमसी प्रत्याशी मुनमुन की दलील, मुझे कुछ नहीं पता, बेड टी देर से मिली ,उठने में देर हो गयी

Kolkata : सोमवार को पश्चिम बंगाल के आसनसोल में हिंसक झड़प की खबरों पर तृणमूल कांग्रेस की प्रत्याशी और पूर्व अभिनेत्री मुनमुन सेन ने कहा कि उन्होंने इस बारे में कुछ नहीं सुना.  मुनमुन सेन ने कहा कि क्योंकि वह देर से सोकर उठी थीं.  बता दें कि एनडीटीवी से बातचीत के क्रम में मुनमुन सेन ने कहा, उन्होंने मुझे बेड टी (सुबह की चाय) देर से दी, इसलिए मैं बहुत देर से उठी… क्या कह सकती हूं…?

मुझे सचमुच कुछ भी नहीं पता. बता दें कि सोमवार को कुछ पोलिंग बूथों पर भाजपा तथा पश्चिम बंगाल में सत्तासीन टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें हुई थीं.  आसनसोल लोकसभा सीट से भाजपा  प्रत्याशी तथा मौजूदा सांसद बाबुल सुप्रियो ने तृणमूल कार्यकर्ताओं पर बूथों पर कब्जा करने और लोगों को वोट नहीं डालने देने का आरोप लगाया है.

इसे भी पढ़ेंः मोदी ने सियासी ‘भस्मासुर’ को साधने के लिए दिया अक्षय को इंटरव्यू?

Catalyst IAS
ram janam hospital

बाबुल की कार पर भी हमला किया गया

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

हिंसा की घटना में बाबुल की कार पर भी हमला किया गया. वह उन इलाकों का दौरा करने कार पर निकले थे, जहां झड़पों की खबरें मिली थीं. उन्होंने पोलिंग बूथों के बारे में ट्वीट भी किये. मुनमुन सेन ने बाबुल सुप्रियो के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर कहा, उनका नाम मत लीजिए..वरना मैं बात नहीं करूंगी.  65-वर्षीय टीएमसी प्रत्याशी मुनमुन सेन ने हिंसा के संदर्भ में कहा, आप उस वक्त बहुत छोटी रही होंगी, इसलिए नहीं देखा होगा, जब कम्युनिस्ट सत्ता में थे… वैसे, यह सिर्फ बंगाल में नहीं, सारे भारत में होता है.

पिछले चुनाव में बांकुरा लोकसभा सीट से वामदलों के नौ बार के सांसद को हराने वाली, और जायंट किलर’ का खिताब पाने वाली मुनमुन सेन ने कहा कि वह जीत के प्रति आश्वस्त हैं. उन्होंने कहा, टीएमसी ने सीट जीत ली है… अब देखिए, क्या होता है..

मुनमुन सेन पिछले साल रामनवमी के जुलूस को लेकर हुए दंगों के बारे में बात करने से मना कर  दिया.  ग्राउंड रिपोर्टों के अनुसार दंगों की वजह से लोकसभा सीट के कुछ इलाके अलग-अलग बंट गये थे.  इस पर मुनमुन सेन ने कहा, मैं दंगों के दौरान वहां नहीं थी… आपको नहीं मालूम है, मैंने कितनी बैठकें की थीं… आपको नहीं पता है, मैं कितनी व्यस्त रही हूं…बाबुल सुप्रियो को लेकर फिर एक सवाल किया गया, और उन्होंने फिर कहा,मैं उनका नाम नहीं सुनना चाहती.

इसे भी पढ़ेंः आचार संहिता उल्लंघन मामले में सुष्मिता देव की याचिका पर SC मोदी और शाह के खिलाफ मंगलवार को सुनवाई करेगा

Related Articles

Back to top button