न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हड़ताली नेता को निकाल निगम ने जबरन समाप्त करायी एमटीएस सफाईकर्मियों की हड़ताल

450

RANCHI : मोरहाबादी स्थित मिनी ट्रांसफर स्टेशन के सफाई कर्मियों की हड़ताल आखिरकार खत्म करा दी गयी है. अब वार्ड नंबर 1, 2, 3, और 4 से कूडे का उठाव बुधवार से होने लगेगा. लेकिन ऐसा करने के लिए जहां निगम के अधिकारियों ने हड़ताल करने वालों को काम से निकाले जाने की धमकी भी दी, वहीं हड़ताली नेता शम्सुल हक को काम से बाहर भी निकाल दिया.

मालूम हो कि गत सोमवार को नगर आयुक्त शांतनु अग्रहरि ने मोरहाबादी एमटीएस में हर हाल में मंगलवार से सफाई कार्य शुरू करने का निर्देश निगम अधिकारियों को दिया था. उन्होंने कहा था कि यदि सफाई कार्य शुरू नहीं हुआ तो संबंधित पदाधिकारियों पर भी कारर्वाई की जायेगी.

हड़ताल समाप्त करने के लिए सुबह से ही प्रयासरत थाा निगम

हड़ताल को खत्म कराने के लिए मंगलवार सुबह करीब 6:00 बजे सहायक कार्यपालक पदाधिकारी राम कृष्ण कुमार निगम के इंफोर्समेंट टीम के साथ मोरहाबादी एमटीएस पहुंचे. टीम ने सफाई कर्मियों की समस्याएं सुन उन्हें काम पर लौटने का आग्रह किया. इसके बावजूद सभी हड़ताली अपने नेता  और वाहन चालक शमसुल हक को काम से नहीं हटाये जाने की मांग को लेकर डटे रहे.

सफाई कर्मियों का कहना था कि यदि शमसुल को कंपनी काम से हटाती है, तो हम उसके साथ हैं. हम न काम करेंगे न ही किसी को करने देंगे. इस बीच लालपुर थाना के सब इंस्पेक्टर ने भी सफाई कर्मियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन सफाई कर्मी काम पर लौटने को तैयार नहीं हुए.

कई घंटे देर से पहुंची निगम की स्वास्थ चिकित्सा पदाधिकारी

हड़ताल खत्म करवाने के उद्देश्य से निगम की सहायक लोक स्वास्थ्य चिकित्सा पदाधिकारी किरण कुमारी मोरहाबादी एमटीएस दोपहर करीब 12 बजे पहुंची. हड़ताल के कारणों की जानकारी लेने पर महिला सफाई कर्मियों ने बताया कि कंपनी की ओर से उन्हें समय पर वेतन नहीं दिया जाता है इसके अलावा कर्मचारियों का ईपीएफ और ईएसआई का पैसा वेतन से तो काट लिया जाता है लेकिन संबंधित विभाग में जमा नहीं किया जाता.

इसके अलावा उन्होंने चालक शमसुल को बिना वजह  हटाये जाने का विरोध किया और कहा कि कंपनी उसे भी काम पर रखे अन्यथा वह काम नहीं करेंगे. इस पर स्वास्थ्य अधिकारी का कहना था कि चालक द्वारा अधिकारियों से दुर्व्यवहार करने के कारण ही उन्हें हटाया गया है  इसलिए उसे दोबारा नहीं रखा जा सकता. उन्होंने सफाई कर्मियों को सख्त निर्देश दिया जिन्हें काम करना है वह काम पर लौट जायें अन्यथा समसुल की तरह उन्हें भी हटा दिया जायेगा और उनकी जगह पर नये सफाई कर्मियों की बहाली की जायेगी.

15 तारीख तक वेतन उपलब्ध कराने का दिया भरोसा

सफाई व्यवस्था संभाल रही रांची एमएसडब्ल्यू (रांची नगर निगम और एस्सेल इंफ्रा का ज्वाइंट वेंचर) के अधिकारियों ने सफाई कर्मियों और चालकों को भरोसा दिलाया कि उन्हें हर माह की 15 तारीख से पूर्व उनका मानदेय देने का प्रयास कंपनी करेगी. साथ ही सभी सफाई कर्मियों का ईपीएफ और ईएसआई की समस्या भी दूर कर दी जाएगी.

वही हड़ताल कराने में सक्रिय भूमिका निभाने वाले शमसुल को काम पर नहीं रखने की बात करते हुए कंपनी के सीनियर मैनेजर ओम किशोर श्रीवास्तव का कहना है कि इस कर्मचारी के कारण ही सभी कर्मी हड़ताल कर रहे हैं. उसके वजह से ही कंपनी में 35 बार हड़ताल हो चुकी है वह सिर्फ नेतागिरी करता है और दूसरे कर्मचारियों को भड़काने का काम करता है. ऐसे में इसे काम पर नहीं ऱखा जा सकता. हालांकि चालक चालक समसुल हक ने कहा कि उसे हटाने की साजिश रची जा रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: