Education & CareerJharkhandRanchi

श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय में शिक्षक के समर्थन में स्टूडेंट्स ने किया प्रदर्शन

Ranchi : श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय में आदिवासी मूलवासी छात्र संघ के बैनर तले स्टूडेंट्स ने गुरुवार को जमकर प्रदर्शन किया. उनका कहना था कि मानव शास्त्र विभाग के प्रोफसर अभय सागर मिंज के साथ एबीवीपी ने दुर्व्यवहार किया है. स्टूडेंट्स ने कहा कि एबीवीपी के प्रसन्न द्वारा प्रोफेसर अभय सागर मिंज के साथ गाली-गलौज की है, जिसे आदिवासी मूलवासी छात्रसंघ के छात्र बर्दाश्त नहीं करेंगे. स्टूडेंट्स का आरोप है कि प्रोफेसर अभय सागर मिंज आदिवासी समाज से आते हैं, इसलिए एबीवीपी द्वारा उन्हें बेइज्जत किया गया और गाली-गलौज भी की गयी, जिसे कतई नहीं बर्दाश्त किया जा सकता है. आदिवासी छात्र संघ के नेता संजय महली ने कहा कि झारखंड में आदिवासियों और दलितों की स्थिति दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है. यहां एससी/एसटी का शोषण लगातार हो रहा है. एबीवीपी कैंपस में छात्र राजनीति नहीं, बल्कि भगवाकरण के उद्देश्य से छात्रों को जोड़ रही है. आदिवासी शिक्षकों को जब तक मान-सम्मान नहीं मिलता, तब तक आदिवासी मूलवासी छात्र संगठन इसके खिलाफ लगातार विरोध प्रदर्शन करता रहेगा.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ें- एनएसयूआई और एबीवीपी ने यूनिवर्सिटी घेरा, प्राचार्य को कहा ‘नो एंट्री’

ABVP ने गाली-गलौज की : प्रो. अभय सागर मिंज

श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अभय सागर मिंज ने कहा, “विरोध प्रदर्शन के दौरान मंगलवार को एबीवीपी के छात्र नेताओं ने विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार को बंद कर दिया था. मुख्य द्वार से बाहर निकलने के क्रम में एबीवीपी के नेताओं ने मेरे साथ गाली-गलौज की थी.”

Samford

इसे भी पढ़ें- SPM यूनिवर्सिटी : कुलपति से रो-रोकर बोली छात्रा- पैसे नहीं हैं, इसलिए पैदल ही आती हूं…

क्या है ममला

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) द्वारा मंगलवार को श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय में छात्रों की समस्याओं को लेकर के धरना-प्रदर्शन किया गया था. प्रदर्शन के दौरान परिषद के छात्र नेताओं ने विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार समेत अन्य द्वार पर तालाबंदी कर दी थी. विश्वविद्यालय से बाहर निकलने के क्रम में प्रोफेसर अभय सागर मिंज की विद्यार्थी परिषद के छात्र नेताओं से बहस हो गयी. बहस के क्रम में छात्र नेताओं द्वारा कुछ टिप्पणी की गयी. प्रोफेसर के अनुसार विद्यार्थी परिषद के छात्रों नेताओं ने उनके साथ गाली-गलौज की, जिससे वह काफी आहत हैं.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: