न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

 उज्ज्वला योजना का हाल :  बिहार, एमपी, यूपी और राजस्थान में 85 फीसदी लाभार्थी आज भी चूल्हे पर पकाते हैं खाना

यह सर्वे  2018 के अंत में किया गया है.  इसमें चार राज्यों के 11 जिलों के 1550 परिवारों का रैंडम सैंपल लिया गया.  इन परिवारों में से 98 फीसदी से अधिक के घर में चूल्हे थे.

93

NewDelhi : प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना  को लेकर एक चौंकाने वाली  रिपोर्ट सामने आयी है.  हिंदू अखबार की खबर कहती है कि इस योजना के तहत मुफ्त एलपीजी रसोई गैस का कनेक्शन पाने वाले चार राज्यों के करीब 85 फीसदी लाभार्थी चूल्हे पर खाना बनाने को विवश हैं.  बता दें कि रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर कम्पैसनेट इकोनॉमिक्स  की नयी स्टडी में सामने आया है कि बिहार, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में उज्ज्वला योजना के 85 फीसदी लाभार्थी अभी भी चूल्हे पर खाना बना रहे हैं.  इसके पीछे के कारण आर्थिक हैं. साथ ही लैंगिक असमानता की बात सामने आयी है. परिणाम स्वरूप चूल्हे पर खाना बनाने के कारण इसके धुएं से नवजातों की मौत, बाल विकास में बाधा के साथ ही दिल व फेफड़े की बीमारियों का आशंका बलवती है. जान लें कि यह सर्वे  2018 के अंत में किया गया है.  इसमें चार राज्यों के 11 जिलों के 1550 परिवारों का रैंडम सैंपल लिया गया.  इन परिवारों में से 98 फीसदी से अधिक के घर में चूल्हे थे. सर्वे में सामने आया कि उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों के अति गरीब होने के कारण सिलेंडर को रिफिल कराना बड़ी समस्या है. ऐसे में सिलेंडर खाली होने पर वे तुरंत इसे भरवाने कि स्थिति में नहीं होते हैं.  इसमें लैंगिक असमानता की भूमिका सामने आयी है.

इसे भी पढ़ेंः सरहुल को लेकर पुलिस-प्रशासन मुस्तैद, सुरक्षा व्यवस्था में लगाये गये 1000 से अधिक जवान

जलावन का मुफ्त में उपलब्ध होना एलपीजी का प्रयोग करने में बड़ी बाधा

Related Posts

 नजरबंद उमर अब्दुल्ला हॉलिवुड फिल्में देख रहे हैं, महबूबा मुफ्ती किताबें पढ़ समय बिता रही हैं

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 के प्रावधानों को खत्म करने के फैसले से पहले कश्मीर के कई राजनेता नजरबंद किये गये थे.

SMILE

सर्वे में पाया गया कि लगभग 70 फीसदी परिवारों को चूल्हे के जलावन पर कोई खर्च नहीं करना पड़ता है.  इसका मतलब है कि यह सिलेंडर के मुकाबले काफी सस्ता पड़ता है.  महिलाएं गोबर के उपले पाथती हैं, जबकि पुरुष लकड़ियां काट कर लाते हैं.  ऐसे में जलावन का मुफ्त में उपलब्ध होना भी एलपीजी का प्रयोग करने में बड़ी बाधा है. सर्वे में अधिकतर लोगों ने माना कि गैस स्टोव पर खाना बनाना आसान है लेकिन उन्होंने माना कि चूल्हे पर खाना अच्छा पकता है, विशेषकर रोटियां.  रिपोर्ट में यह बात भी सामने आयी कि लोगों के बीच एक आम धारणा है कि गैस चूल्हे पर बने खाने से पेट में गैस बनती है.  ऐसे में उज्ज्वला योजना को लेकर जागरुकता बढ़ाने पर जोर देने की बात कही गयी. बता दें कि उज्ज्वला योजना  साल 2016 में शुरू की गयी थी. इस योजना के तहत ग्रामीण परिवारों को मुफ्त में गैस सिलेंडर, रेगुलेटर और पाइप देना था.  सरकारी आंकड़ों की मानें तो इस योजना के तहत छह करोड़ परिवारों को गैस कनेक्शन प्रदान दिये गये हैं.

इसे भी पढ़ेंःबेरोजगारी और किसानों की समस्याएं महागठबंधन के मुख्य चुनावी मुद्दे :…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: