न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रही राज्य सरकार : झाविमो

चतरा जिला प्रशासन ने सरकारी गड़ी में तेल देने के नाम पर कई विभागों में दौड़ाया, पेट्रोलवाले वाहन को डीजल का कूपन दिया, देर होने पर बगैर सुरक्षा के निजी वाहन से जाना पड़ा बाबूलाल मरांडी को

145

Ranchi : झाविमो ने राज्य सरकार पर पूर्व मुख्यमंत्री सह पार्टी अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी की सुरक्षा से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है. झाविमो के केंद्रीय प्रवक्ता योगेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है, मानो भाजपा सरकार साजिश कर बाबूलाल मरांडी को समाप्त करना चाहती है. 10 नवंबर को चतरा जिला प्रशासन द्वारा बाबूलाल जी के कारकेड में शामिल सरकारी गाड़ी में तेल देने के दौरान जो रवैया अपनाया गया, उससे कहीं न कहीं एक बड़ी साजिश की बू आ रही है. चूंकि बाबूलाल मरांडी को 10 नवंबर को चतरा जिले में चार कार्यक्रमों में शामिल होना था. उन्हें 10 बजे ही चतरा परिसदन से निकलना था, परंतु 12 बजे तक भी प्रशासन द्वारा तेल उपलब्ध नहीं कराये जाने से आहत बाबूलाल जी को बगैर सरकारी सुरक्षा व बिना सरकारी वाहन के ही एक निजी वाहन से कार्यक्रम के लिए रवाना होना पड़ा.

देखें वीडियो : कैसे मामा ने भरी गोली और भांजे ने किया फायर, धनबाद एसएसपी ने कहा होगी कार्रवाई

इसे भी पढ़ें- देखें वीडियो : कैसे मामा ने भरी गोली और भांजे ने किया फायर, धनबाद एसएसपी ने कहा होगी कार्रवाई

यह बड़ी साजिश का संकेत है

योगेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि पहले तो चतरा जिला प्रशासन द्वारा तेल देने में दो-ढाई घंटे विलंब किया गया. तेल देने के नाम पर कभी इस विभाग में, तो कभी उस विभाग में दौड़ाया गया. फिर जब तेल का कूपन मिला भी, तो अलग-अलग पेट्रोल पंपों के चार कूपन दिये गये, ताकि और विलंब हो व बाबूलाल जी कार्यक्रम स्थल तक पहुंच ही न सकें. इतना ही नहीं, पेट्रोल वाले वाहन को डीजल का कूपन दे दिया गया. और तो और, गाड़ी का नंबर भी गलत अंकित किया गया. एक साथ इतनी गड़बडियों को संयोग कहना कतई मुनासिब नहीं होगा. कहीं न कहीं बाबूलाल जी के साथ यह एक बड़ी साजिश का संकेत लगता है. सिंह ने कहा कि अब सवाल है कि बाबूलाल मरांडी नक्सलियों के टारगेट पर हैं,  इसकी इन्हें पूर्व में कीमत भी चुकानी पड़ी है, ऐसे में खुदा न करे कोई अप्रिय घटना होती है, तो इसकी जवाबदेही कौन लेगा? जब बाबूलाल जी को सीआरपीएफ सुरक्षा प्राप्त है, तो भला बगैर सरकार के इशारे के इनकी सुरक्षा की अनदेखी करने की हिमाकत जिला प्रशासन में है क्या? बाबूलाल जी जैसे बड़े नेता के साथ जब जिला प्रशासन का रवैया ऐसा है, तो आम जनता के साथ वह क्या सलूक करता होगा, इसे समझा जा सकता है. राज्य सरकार पक्ष-विपक्ष के राजनीतिक चश्मे से नेताओं की सुरक्षा में भेदभाव बरत रही है. यह स्वस्थ लोकतंत्र के लिए कतई शुभ संकेत नहीं है. झाविमो की मांग है कि सरकार अविलंब चतरा प्रशासन के दोषी अफसरों पर कड़ी कार्रवाई करे. झाविमो इस मामले में चुप बैठनेवाला नहीं है. उचित स्थान पर इस मामले को रखा जायेगा.

पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रही राज्य सरकार : झाविमो

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: