JharkhandSaraikela

सरायकेला : डायन के नाम पर नौ लोगों की पिटाई, किया गया मुंडन, महिलाओं के नाखून निकाले गये 

Saraikela : अंधविश्वास, मानवता और इंसानियत को शर्मसार कर देता है. ऐसा ही एक मामला सरायकेला-खरसावां जिले के राजनगर थाना क्षेत्र के कृष्णापुर गांव में सामने आया है. जहां गुरुवार को डायन के नाम पर नौ पुरुषों की घर से निकालकर पिटाई की गयी. सामूहिक रूप से उनका जबरन मुंडन भी कर दिया गया. इतना ही नहीं सात महिलाओं के नाखून भी काट दिये गये. वहीं पीड़ितो के द्वारा थाने में शिकायत करने पर दोबारा पिटाई करने की धमकी भी दी गयी. इस घटना के बाद कृष्णापुर गांव के महतो टोला में खौफ का मंजर है.

पीड़ित परिवार घर से निकलने से डर रहे हैं

ram janam hospital
Catalyst IAS

पीड़ित परिवार घर से निकलने से डर रहे है. पीड़िता सुशीला महतो ने सोमवार को राजनगर थाने में इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज कराई. रविवार देर रात जब मामले की सूचना थाना में पहुंची तो पुलिस  तत्परता दिखते हुए गांव पहुंची. पुलिस के गांव में पहुंचते ही भगदड़ मच गयी और सभी आरोपी रात को गांव से  फरार हो गये. जिसमें 14 लोगों को खबर लिखे जाने तक हिरासत में लिया गया है.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

 इन लोगों का किया गया मुंडन और काटे गये नाखून

हारा महतो, करमू महतो, माझलू महतो, गुरुचरण महतो, हेमंत महतो, वासुदेव महतो, सुशेन महतो, शंभू महतो, मकरध्वज महतो और सुशीला महतो, रीना महतो, सुभ्रदा महतो, सावित्री महतो, यमुना महतो, सविता महतो और लखीमुनी महतो.

कौन कौन हैं घटना को अंजाम देने वाले आरोपी

सुशीला महतो के द्वारा राजनगर थाने में दर्ज कराई गयी प्राथमिकी में 26 लोगों को नामजद किया गया है.बंकु बिहारी महतो, रासबिहारी महतो, ग्राम प्रधान विकास सतपति, सुमन प्रमाणिक, छुटू राम महतो, बादल महतो, सागर महतो, विष्णु महतो, जगबंधु महतो, रोहिना महतो, जेठूराम महतो, दीनबंधु महतो, देवलाल महतो, आहा महतो, खुशी महतो, उमेश महतो, गुरु चरण महतो, महुआ प्रसाद महतो, महेश्वर महतो, राय बिहारी महतो,

विष्णिु महतो, जगबंधु महतो जयदेव महतो,  दीनू महतो, नित्यानंद महतो के साथ-साथ गांव के मुखिया, ग्राम प्रधान, वार्ड मेंबर को भी आरोपी बनाया गया है. राजनगर थाना प्रभारी ने कहा कि डायन के नाम पर हुई हिंसा के 14 आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है. साथ ही पीड़ितो को गांव में सुरक्षा मुहैया कराई गयी है,  ताकि वे भय मुक्त हो कर गांव में रहें.

इसे भी पढ़ें – अजय कुमार के इस्तीफे से बंटी कांग्रेस, कहीं खुशी तो कहीं है गम

झारखंड बनने के बाद से राज्य में 18 सौ लोगों की डायन के नाम पर हत्या

डायन के नाम पर हिंसा को काम करने के साथ-साथ डायन को लेकर समाज में फैले अंधविश्वास को रोकने के लिए राज्य सरकार के कल्याण विभाग के द्वारा जागरूकता अभियान   चलाया जाता रहा है, लेकिन इस तरह की घटनाएं अक्सर सामने आ जाती हैं. झारखंड बनने के बाद से अब तक राज्य में 18 सौ लोगों की डायन के नाम पर हत्या कर दी गयी है.1990 से 2000 के बीच में 522 महिलाओं की हत्या डायन के नाम पर हुई है. सिंहभूम और इससे अलग हो कर बने जिले सरायकेला खरसावां में राज्य बनने के बाद 233 महिलाओं की हत्या डायन के नाम पर कर दी गयी.

इसे भी पढ़ें- कोलैप्स कर सकता है झारखंड का फाइनैंशियल सिस्टम! सिर्फ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से 37257.7 करोड़ का कर्ज, ब्याज में अब तक चुकाये जा चुके हैं 17558.07 करोड़

Related Articles

Back to top button