National

सैम पित्रोदा ने कहा, सही समय पर साथ आयेंगे विपक्षी दल, मोदी सरकार को सत्ता से हटाना हमारा मकसद

NewDelhi : कांग्रेस के मुख्य रणनीतिकार सैम पित्रोदा ने कहा है कि सही समय पर विपक्षी दलों का गठबंधन  एक साथ आ जायेगा. न्यूज एजेंसी एएनआई को दिये गये अपने इंटरव्यू में  पित्रोदा ने कहा कि सभी दलों का मुख्य उद्देश्य मोदी सरकार को सत्ता से हटाना है, चाहे इसके लिए सीटों की संख्या पर ही समझौता करना पड़े.

बता दें कि सैम पित्रोदा का इंटरव्यू  समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा कांग्रेस पर निशाना साधने के एक दिन बाद आया है. इसके आलोक मे पित्रोदा से जब पूछा गया कि गठबंधन अपने अंदरूनी मसले कैसे सुलझाएगा तो उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि इस पर हमें सोचना चाहिए, गठबंधन सही समय पर साथ आ जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःराहुल गांधी का दावा- लोस चुनाव हार रही BJP, सेना के राजनीतिकरण पर उठाये सवाल

सभी दल लोकतंत्र और शांति चाहते हैं

मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि सभी पार्टियों का एक ही लक्ष्य है. सभी दल लोकतंत्र और शांति चाहते हैं. शांति से ही समृद्धि हो सकती है. देश में शांति से ही हम नौकरियों के नये अवसर पैदा कर पायेंगे.  पित्रोदा ने कहा, हम लोगों को बांटकर कभी भी नौकरियों के अवसर नहीं पैदा कर सकते.  कहा कि मुझे गठबंधन के  लोगों की नेतृत्व क्षमता पर विश्वास है. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आज उनके पास क्या पद है, जब भी सही समय आयेगा, मुझे विश्वास है कि वह सही फैसला लेंगे.’

इसे भी पढ़ेंः राफेल डील : गोपनीय दस्तावेज सार्वजनिक करने से देश पर खतरा , SC में केंद्र सरकार का जवाबी हलफनामा

नयी पीढ़ी मोदी को इसलिए वोट कर रही है, क्योंकि…

बता दें कि पिछले हफ्ते, प्रधानमंत्री मोदी ने मुंबई में रैली में कहा था कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को 50 सीटें भी नहीं मिलेंगी. पीएम ने कहा था, विपक्षी सोच रहे हैं कि पहली बार वोट देने वाले मतदाता और नयी पीढ़ी के लोग मोदी का क्यों समर्थन कर रहे हैं.

नयी पीढ़ी मोदी को इसलिए वोट कर रही है, क्योंकि उन्हें  उम्मीद है कि मोदी उनकी उम्मीदों को अभिव्यक्ति दे रहा है. ये लोग 2047 को देख रहे हैं, जब भारत अपनी आजादी के 100 साल मनायेगा,  लेकिन कुछ लोग हैं जो 20वीं शताब्दी में ही फंसे हुए हैं.

adv

इस संबंध में पित्रोदा ने कहा, कांग्रेस जीत रही है, हथियार डालने का तो सवाल ही खड़ा नहीं होता. उदाहरण के तौर पर तमिलनाडु में हमारी रैलियों को देखिए. वहां  हमें 30 सीटों का नुकसान हो रहा है तो सहयोगियों को 30 सीटें मिल रही हैं. महाराष्ट्र में भी ऐसा ही है. हमारे सहयोगियों को 15-20 सीटें मिल रही हैं तो हमें 15-20 सीटों का नुकसान हो रहा है. तो इसलिए यह हमारा और सहयोगी दलों का सही गठबंधन है.

इसे भी पढ़ेंः प्रियंका गांधी का आरोपः अमेठी के ग्राम प्रधानों को बीजेपी 20-20 हजार दे रही रिश्वत

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: