National

#SalmanKhurshid ने कहा, #Article 370 समाप्त करने का प्रतिकूल प्रभाव होगा

विज्ञापन

NewDelhi :  कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने शनिवार को कहा कि संविधान में अनुच्छेद 370 लाने का उद्देश्य जम्मू कश्मीर को देश के बाकी हिस्से से जोड़कर रखना था और इसे बिना सोच विचार के समाप्त कर दिया गया और इसका क्षेत्र पर केवल प्रतिकूल प्रभाव होगा.

पूर्व केंद्रीय मंत्री खुर्शीद ने यहां इंडिया हैबिटैट सेंटर में चल रहे टाइम्स लिटफेस्ट में कहा, इसका एक प्रतिकूल प्रभाव होगा.आपने हमें इसका कोई विकल्प नहीं दिया कि कश्मीर को जिस तरह से जुड़कर रहना चाहिए, वह हमारे साथ जुड़कर कैसे रहेगा तथा एकीकरण का मतलब उनकी आकांक्षाओं का तिरस्कार नहीं है, एकीकरण सबसे हितकर भावना है.

इसे भी पढ़ें : जीडीपी ग्रोथ रेट: नोटबंदी के दिन से ही शुरू हो गया था आर्थिक दुर्भाग्य

advt

इस पर समुचित तरीके से विचार नहीं किया गया

मेरा मानना है कि इस पर समुचित तरीके से विचार नहीं किया गया. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर का जुड़ाव कई कारणों के चलते हासिल नहीं हो पाया था और यह सोचना कि यह अनुच्छेद 370 को समाप्त करके हासिल हो सकता है तो यह बहुत कपोल कल्पना है.
उन्होंने कहा, सभी यह स्वीकार करते हैं कि अनुच्छेद 370 संविधान का एक अस्थायी प्रावधान है.

इसे भी पढ़ें : #Maharashtra : #BJP के वॉकआउट के बीच CM उद्धव ठाकरे फ्लोर टेस्ट में पास

कश्मीर मनोवैज्ञानिक, भौतिक और आत्मिक रूप से भारत के विचार से जुड़ा है

यह सुनिश्चित करने की आकांक्षा और प्रयास को दर्शाता है कि कश्मीर मनोवैज्ञानिक, भौतिक और आत्मिक रूप से भारत के विचार से जुड़ा हुआ है. खुर्शीद ने कहा, यह उद्देश्य था और मेरा मानना है कि उद्देश्य कई कारणों के चलते पूर्ण रूप से पूरा नहीं हुआ लेकिन वह उद्देश्य अनुच्छेद 370 को समाप्त करने से हासिल होगा, मेरा मानना है कि यह कपोल कल्पना है.

उन्होंने कहा कि भाजपा नीत केंद्र सरकार द्वारा बताये गए उद्देश्य के विपरीत अनुच्छेद 370 समाप्त करने के प्रभाव पूरी तरह से विपरीत और प्रतिगामी होंगे.

adv

पूर्व विदेश मंत्री ने कहा, भविष्य में ऐसे प्रभाव और संभावित घटनाएं होंगी जो कि बहुत प्रतिगामी होंगी और वास्तव में उस उद्देश्य से पूरी तरह से विपरीत होंगी जो बताकर उसे किया गया था.

इसे भी पढ़ें : #ElectoralBondScheme 2018 लागू करने के खिलाफ एडीआर की सुप्रीम कोर्ट में याचिका  

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button