न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ऑपरेटर के दबाव में निगम निकालेगा 9वीं बार सिटी बसों का टेंडर

2,003

Ranchi: शहर में चला रहे सिटी बस ऑपरेटरों के दबाव को देखते हुए रांची नगर निगम एक बार फिर टेंडर निकालने जा रहा है. यह टेंडर आगामी 2 जनवरी को निकाला जाएगा. जिन सिटी बसों के परिचालन के लिए निगम 9वीं बार टेंडर निकालेगा, उसमें कई बसें पिछले कई माह से बकरी बाजार स्टोर और शहर के अन्य जगहों पर खड़ी हैं. इसके अलावा वर्तमान में ऑपरेटर किशोर मंत्री के अधीन राजधानी में चल रहीं 25 सिटी बसों का भी टेंडर इसमें शामिल है. इस तरह निगम इस बार अपनी सभी 91 बसों का टेंडर निकालेगा. इसमें जहां लाल सिटी बसों की संख्या 26 और अन्य बसों की संख्या 65 है.

पहले भी आठ बार निकाला जा चुका है टेंडर 

मालूम हो कि रांची नगर निगम अपनी तमाम कोशिशों के बावजूद 66 सिटी बसों को शहर की सड़कों पर उतारने में नाकाम ही रहा है. हालत यह है कि बकरी बाजार स्टोर रूम में पड़ी सभी सिटी बसें सड़ने के कगार पर हैं. हाल ही में यहां रखी बसों में कुछ आसमाजिक तत्वों द्वारा आग लगा दी गयी थी. वहीं कई बार सिटी बस चल रहे ऑपरेटरों द्वारा निगम पर भाड़ा बढ़ाने का भी दबाव बनाया जाता रहा है. इसे देखते हुए अब अपर नगर आयुक्त गिरिजा शंकर प्रसाद ने इन सिटी बसों का नौवीं बार टेंडर निकालने का आदेश दिया है.

भाड़ा नहीं बढ़ाने पर सरेंडर का था अल्टीमेटम 

कुछ दिन पहले रांची नगर निगम और ऑपरेटर किशोर मंत्री के बीच सिटी बसों को चलाने को लेकर विवाद भी चरम पर दिखा था. जहां ऑपरेटर किशोर मंत्री ने प्रति स्टॉपेज दो रुपये भाड़ा नहीं बढ़ाने पर बसों को निगम को सरेंडर करने का अल्टीमेटम दिया था. वही निगम के अधिकारी भी भाड़ा बढ़ाने के मूड में नहीं थे. इसी दबाव को देखते हुए निगम अब सभी 91 बसों के लिए टेंडर निकाल एक निश्चित भाड़ा तय करेगा, ताकि भविष्य में निगम पर कोई ऑपरेटर दबाव नहीं बना सकें.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

SMILE

टेंडर निकालने को अधिकृत है निगम : अपर नगर आयुक्त 

पहले से चल रही सिटी बसों के लिए फिर से टेंडर निकालने के सवाल पर अपर नगर आयुक्त ने साफ किया है कि पहले की टेंडर अवधि के बीच में नया टेंडर निकालने के लिए निगम पूरी तरह से अधिकृत है. इसी के तहत निगम पहले ही एक ऑपरेटर सुरेश सिंह को सिटी बस चलाने से बाहर कर चूका है. अब फिर से निगम के उपर बस भाड़ा बढ़ाने का दबाव ऑपरेटर किशोर मंत्री बनाते रहे हैं. ऐसे में जरूरी है कि निगम एक नया टेंडर निकाल कर नये ऑपरेटरों की तलाश करे.

इसे भी पढ़ेंः सरकार अब सिटी बसों में देगी निःशुल्क वाई-फाई की सुविधा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: