Corona_UpdatesHEALTHJharkhandPalamu

पलामू: कोविड-19 वैक्सिनेशन की तैयारी तेज, पहले चरण के 7500 सरकारी फ्रंट लाइन वर्कर्स की सूची तैयार

  • निजी अस्पतालों के कर्मचारियों की सूची अबतक है अधूरी

Palamu : कोविड-19 के संभावित वैक्सिनेशन की गतिविधियों की सुचारू रूप से कार्यान्वयन, निगरानी एवं अनुश्रवण के लिए जिला टास्क फोर्स की बैठक उपायुक्त शशि रंजन की अध्यक्षता में शनिवार को समाहरणालय सभागार में हुई. बैठक में उपायुक्त ने विशेष निर्देश देते हुए कहा कि वैक्सिन्स को प्राप्त करने से लेकर उसे व्यक्ति को देने तक के बीच होनेवाले सभी व्यावधानों की पहचान कर तैयारी सुनिश्चित करें. वैक्सिन के रख-रखाव एवं उसके केंद्र तक ले जाने की समुचित तैयारी की कार्य योजना तैयार रखें.

इसे भी पढ़ें: धनबाद रेलवे स्टेशन में लगेज स्कैनर जांच में मिला पिस्तौल

मौके पर डीपीएम दीपक कुमार ने जानकारी दी कि सरकार से अब तक प्राप्त दिशा-निर्देशों के आलोक में सबसे पहले हेल्थ वर्कर्स तथा फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सिन दी जानी है. इसके लिए अब तक बनाये गए डाटाबेस के अनुसार 7500 व्यक्तियों की सूची बना ली गयी है.

इसमें हेल्थ वर्कर्स, आईसीडीएस की सेविका, सहायिका सहित कुछ निजी अस्पतालों के कर्मी शामिल हैं. बाकी निजी अस्पतालों द्वारा अपने कर्मियों की सूची उपलब्ध नहीं कराई जा रही है.

इसे भी पढ़ें: शवों को सुरक्षित रखने के लिए RMC के हर वार्ड में रहेगा डीप फ्रीजर

डीसी बोले, जल्द से जल्द अपने कर्मियों की सूची उपलब्ध कराये निजी अस्पताल

उपायुक्त ने निजी अस्पतालों से जल्द से जल्द अपने कर्मियों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि कर्मियों की सूची आ जाने से वैक्सीनेशन के पहले चरण में कुल कितने लोगों को वैक्सीन देनी है ये स्पष्ट हो जाएगा. इससे वैक्सीन देने में आसानी होगी.

50 हजार से अधिक वैक्सीन की जा सकती हैं स्टोर

डॉ अनिल कुमार ने बताया कि जिले में अभी 14 कोल्ड चैन मैनेजमेंट सिस्टम मौजूद हैं. यहां पर एक बार में 50 हजार से अधिक वैक्सीन स्टोर की जा सकती है. इसके अलावा जिले में 2 हजार 127 वैक्सीन कैरियर उपलब्ध है.

उपायुक्त ने कहा कि कोविड-19 के वैक्सीन आने पर जिले में कोल्ड चैन मैनेजमेंट के अधिकतम कैपेसिटी को यूटिलाइज करना है. इसके अलावा उपायुक्त ने जिले में वैक्सीन देने वाले सभी वैक्सिनटर्स को जल्द से जल्द ट्रेनिंग देने का निर्देश दिया.

उपायुक्त ने कहा कि आमजन में भ्रम की स्थिति उत्पन्न न हो, इसके लिए सही जानकारी की व्यापक प्रचार-प्रसार आमजनों के बीच सुनिश्चित करें.

बैठक उप विकास आयुक्त शेखर जमुआर, डॉक्टर एमपी सिंह, डॉक्टर अनिल कुमार, जिला शिक्षा अधीक्षक, जिला शिक्षा पदाधिकारी, डीपीएम स्वास्थ्य दीपक कुमार, यूनिसेफ एवं डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि सहित अन्य मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : Latehar : छत्तीसगढ़ के 5 डकैत गिरफ्तार, महुआडांड़ में बंदूक के बल पर की थी लूटपाट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: