JharkhandRanchi

पद्मश्री बुल्लू इमाम झारखंड के लिए पहले डेल्फिक ब्रांड एंबेसडर होंगे, एनएन पांडे अध्यक्ष बने

Ranchi : डेल्फिक काउंसिल झारखंड की वर्चुअल बैठक डेल्फिक काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन विजेंद्र गोयल की अध्यक्षता में हुई. बैठक में साउथ एशियन डेल्फिक काउंसिल के उपाध्यक्ष रमेश प्रसन्ना तथा डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान के सेक्रेटरी जनरल जितेंद्र सोनी तथा डेल्फिक काउंसिल ऑफ बिहार के सेक्रेटरी जनरल संजीव कुमार इस अवसर पर केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में शामिल हुए.

इस बैठक में डेल्फिक काउंसिल ऑफ झारखंड के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया आरंभ करने को सहमति दी गयी तथा मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन और मेमोरेंडम ऑफ आर्टिकल को अंगीकृत करते हुए इसे पारित किया गया.

कार्यकारी समिति ने डेल्फिक काउंसिल आफ झारखंड की कमेटी को विस्तारित करने का भी निर्णय लिया और एडवाइजरी बोर्ड तथा विशेष आमंत्रित सदस्यों की नियुक्ति करने का निर्णय लिया गया.

बैठक में इंडियन डेल्फिक काउंसिल द्वारा नामित पदाधिकारियों को डेल्फिक काउंसिल ऑफ झारखंड की पहली कार्यकारी बैठक में अनुमोदित किया गया.

इसे भी पढ़ें :वित्त मंत्री का एलान, कोरोना प्रभावित सेक्टर के लिए 1.1 लाख करोड़ की लोन गारंटी

1. बुल्लू इमाम स्टेट डेल्फिक एंबेसडर
2. एनएन पांडे (आइएएस रिटायर्ड), प्रेसिडेंट
3. शांतनु अग्रहरि (आइएएस), वाइस प्रेसिडेंट
4. अतिराज सिन्हा, सेक्रेटरी जनरल
5. कुमार मनोज सिंह, कोषाध्यक्ष
6. रजनी वर्मा, ज्वाइंट सेक्रेट्री जनरल
7 एके रस्तोगी (आईएएफएस), डायरेक्टर (इकोलॉजिकल आर्ट एंड आर्किटेक्चर)
8. नंदलाल नायक, डायरेक्टर, सोशल आर्ट्स ( एर्ल्ड acclaimed इन प्रमोटिंग ट्राइबल परफार्मिंग आर्ट्स ऑफ झारखंड),
9. मृणाल पाठक, डायरेक्टर (म्यूजिकल आर्ट्स एंड साउंड्स)
10. संगीता शर्मा, डायरेक्टर डेल्फिक क्लब्स
11. सैकत चैटर्जी, डायरेक्टर (विजुअल आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स)
12. अजय मलकानी, डायरेक्टर (परफॉर्मिंग आर्ट्स एंड एथिक्स)
13. वंदना टेटे, डायरेक्टर, (लैंग्वेज आर्ट्स एंड रेटोरिक)

इसे भी पढ़ें :ICC टी20 विश्व कप का आयोजन भारत में नहीं होगा, जानिये किस देश में शिफ्ट हुआ टूर्नामेंट 

क्या डेल्फिक काउंसिल

अंतरराष्ट्रीय डेल्फिक काउंसिल एक स्वयंसेवी, गैर-लाभकारी, गैर राजनीतिक और गैर धार्मिक वैश्विक संगठन है जो दुनिया भर के लोगों के बीच विभिन्न कला रूपों तथा सांस्कृतिक पहचान से जुड़े डेल्फिक गेम के आयोजन के माध्यम से सद्भावना फैलाने का काम करता है.

भारत के 18 राज्यों में डेल्फिक काउंसिल की स्थापना की गयी है और बृजेंद्र गोयल इसके अध्यक्ष हैं. गोयल डेल्फिक काउंसिल के दक्षिण एशिया प्रमुख भी हैं और उन्होंने दक्षेस के साथ अन्य देशों में डेल्फिक काउंसिल की स्थापना की पहल की है.

इसे भी पढ़ें :बिहार : जदयू कार्यालय में अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ की बैठक, उमेश कुशवाहा सहित कई नेता रहे मौजूद

जानें, कौन हैं बुल्लू इमाम

सांस्कृतिक क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए पद्मश्री पानेवाले झारखंड के बुल्लू इमाम का जन्म 31 अगस्त 1942 को हुआ. वह पर्यावरण कार्यकर्ता के तौर पर झारखंड में आदिवासी संस्कृति और विरासत को संरक्षित करते रहे हैं.

इसके लिए उन्हें 12 जून 2012 को लंदन के हाउस ऑफ लॉर्ड्स में गांधी इंटरनेशनल पीस अवार्ड से सम्मानित किया गया. वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष रहे सैयद हसन इमाम के पोते हैं. बुल्लू इमाम साल 1987 से इंटक हजारीबाग चैप्टर के संयोजक रहे हैं.

1991 में उन्होंने इस्को में झारखंड की पहली चट्टान कला की खोज की. बाद में उत्तरी कर्णपुरा घाटी में दर्जन भर से अधिक चट्टान कला स्थल का खोज किया. 1993 में उन्होंने खोवर (विवाह) कला और मिट्टी के घरों की दीवारों पर चित्रित सोहराई (फसल) कला को दुनिया के सामने लाया.

इसे भी पढ़ें :बिहार : पंचायत चुनाव की तैयारी ने पकड़ी रफ्तार, मतदान के अगले दिन परिणाम

Related Articles

Back to top button