National

किसान आंदोलन का असर नहीं… सरकार ने MSP पर खरीदा 60 हजार करोड़ खर्च कर 318 लाख टन धान, खरीदारी जारी

पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड, तमिलनाडु, चंडीगढ़, जम्मू और कश्मीर, केरल, गुजरात, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और महाराष्ट्र में धान की खरीद सुचारू रूप से जारी

 NewDelhi :  एक तरफ किसान आंदोलन जारी है, तो दूसरी तरफ न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकार की खरीदारी भी जारी है. सरकार ने मंगलवार को जानकारी दी है कि चालू खरीफ विपणन सत्र के दौरान उसने न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर अब तक 60 हजार करोड़ रुपये से अधिक खर्च कर 318 लाख टन धान की खरीदारी की है. और यह पिछले साल की तुलना में 19 प्रतिशत अधिक है.

एक आधिकारिक बयान में जानकारी दी गयी पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड, तमिलनाडु, चंडीगढ़, जम्मू और कश्मीर, केरल, गुजरात, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और महाराष्ट्र में धान की खरीद सुचारू रूप से जारी है. सरकार के अनुसार  चालू खरीफ विपणन सत्र में मौजूदा योजनाओं के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर खरीफ फसलों की खरीद जारी रहेगी.

इसे भी पढ़ें : बिहार राज्यसभा उपचुनाव : आज नामांकन दाखिल करेंगे मोदी, राजद का दांव फेल, चिराग ने ऑफर ठुकराया…

पंजाब ने अकेले 202.77 लाख टन का योगदान दिया

खबर है  कि सरकार ने इस सत्र में 30 नवंबर तक 318 लाख टन धान की खरीद की है. यह पिछले साल की समान अवधि के 268.15 लाख टन से 18.58 प्रतिशत अधिक है.

बयान में कहा गया कि लगभग 29.70 लाख किसानों को पहले से ही 60,038.68 करोड़ रुपये के एमएसपी मूल्य के साथ चल रहे खरीफ विपणन सत्र के खरीद कार्यों से लाभान्वित किया गया है. 318 लाख टन की कुल खरीद में से, पंजाब ने अकेले 202.77 लाख टन का योगदान दिया है, जो कुल खरीद का 63.76 प्रतिशत है.

इसे भी पढ़ें : किसान आंदोलन का साइड इफेक्ट : उत्तर रेलवे ने रद्द की कुछ ट्रेनें, कई के रूट बदले…

 छह दिनों से जारी है किसान आंदोलन

बता दें कि मोदी सरकार के नये कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर के किसान छह  दिनों से आंदोलनरत हैं. मंगलवार को सरकार और किसान नेताओं की बातचीत हुई, जो बेनतीजा रही. दोपहर तीन बजे शुरू हुई बैठक करीब सात  बजे खत्म हुई. सरकार ने किसानों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे अपनी मांगों पर अड़े रहे.

किसान नेता चंदा सिंह ने कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ हमारा आंदोलन जारी रहेगा आज किसान दिल्ली कूच करने वाले हैं. आज पंजाब और हरियाणा से भी ट्रैक्टर रवाना होंगे. इस बीच पुलिस ने दिल्ली नोएडा का चिल्ला बॉर्डर बंद कर दिया है.

इसे भी पढ़ें : 2022 में संसद का शीतकालीन सत्र नये भवन में होने की उम्मीद : लोकसभा महासचिव

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: