न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इंजीनियर निशांत नेहा और पूजा नाम से फेसबुक पर पाकिस्तान से चल रहे फर्जी अकाउंट के जाल में फंसा था

जासूसी के आरोप में गिरफ्तार ब्रह्मोस इंजीनियर निशांत अग्रवाल फेसबुक पर नेहा शर्मा और पूजा रंजन नाम से चल रहे दो फर्जी अकाउंट के जरिए पाकिस्तान के संदिग्ध खुफिया सदस्यों से संपर्क में था.

121

Lucknow : जासूसी के आरोप में गिरफ्तार ब्रह्मोस इंजीनियर निशांत अग्रवाल फेसबुक पर नेहा शर्मा और पूजा रंजन नाम से चल रहे दो फर्जी अकाउंट के जरिए पाकिस्तान के संदिग्ध खुफिया सदस्यों से संपर्क में था. यूपी पुलिस ने यह बात कही है. इस क्रम में अधिकारियों ने यह भी दावा किया है कि निशांत  अग्रवाल अतिसंवेदनशील काम में लगे होने के बावजूद काफी लापरवाह था.  इसलिए वह पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी का आसानी से शिकार हो गया. बता दें कि यूपी एटीएस ने मंगलवार को नागपुर में जूनियर मैजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी एसएम जोशी की अदालत में निशांत को पेश किया और लखनऊ के लिए ट्रांजिट रिमांड मांगी. अदालत ने यूपी एटीएस के लिए तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड मंजूर कर ली.

इसे भी पढ़ें – अल्पेश ठाकोर ने यूपी और बिहार के सीएम को लिखा खुला पत्र, कहा- हमले के लिए जिम्मेदार नहीं

दोनों अकाउंट फर्जी नामों स इस्लामाबाद से संचालित हो रहे थे

एटीएस सूत्रों के अनुसार निशांत सोशल मीडिया साइट लिंक्डइन के जरिए भी पाकिस्तानियों के संपर्क में था. पाक खुफिया एजेंसी द्वारा संचालित दोनों फर्जी फेसबुक अकाउंट्स में नेहा ने खुद को लंदन बेस्ड, जबकि रंजन ने  खुद को अमेरिका के शिकागो की निवासी बताया था. सच यह सामने आया कि दोनों अकाउंट फर्जी नामों स इस्लामाबाद से संचालित हो रहे थे. आशंका जताई जा रही है कि निशांत ने  इसके जरिए पाकिस्तान में सूचनाएं भेजी हैं. एटीएस के अधिकारी निशांत के घर और कार्यालय से बरामद डिजिटल साक्ष्यों की गहनता से पड़ताल कर रहे हैं.एटीएस ने कोर्ट में जो जानकारी दी है उसके अनुसार आरोपी निशांत के पर्सनल लैपटॉप में पीडीएफ फॉरमेट में कई विशेष फाइलें मिली हैं.  जांच अधिकारी के अनुसार यह सब शीर्ष गोपनीय सूचनाएं हैं, अगर इन्हें साझा किया जाये तो यह देश के लिए खतरा हो सकता है.  

जान लें कि पुलिस ने सोमवार को निशांत को नागपुर के वर्धा रोड केंद्र से गिरफ्तार किया गया था.  निशांत पर भारत के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और रूस के मिलिटरी इंडस्ट्रियल कनसोर्टियम के संयुक्त उपक्रम ब्रह्मोस ऐरोस्पेस से जुड़ी सूचनाएं लीक करने का आरोप लगा है. लखनऊ में एटीएस सूत्रों ने कहा था कि नागपुर में उसके आवास से एक कम्प्यूटर जब्त किया गया है,  जिससे गोपनीय दस्तावेज मौजूद हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: