न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अल्पेश ठाकोर ने यूपी और बिहार के सीएम को लिखा खुला पत्र, कहा- हमले के लिए जिम्मेदार नहीं

अनशन के लिए किया आमंत्रित

147

Ahmedabad: गुजरात में हिंदी भाषी प्रवासियों पर हमले को लेकर आलोचनाओं से घिरे कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर ने मंगलवार को बिहार और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा एवं दावा किया कि वह या उनका संगठन हिंसा में शामिल नहीं है, जिसकी वजह से लोग जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – सवालः आखिर पाकुड़ में डीसी के खिलाफ हो रहे हंगामे पर सरकार क्यों नहीं ले रही संज्ञान

बिहार व यूपी के सीएम को लिखी चिट्ठी

hosp1

अल्पेश ठाकोर ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चिट्ठी लिखी है. और दोनों ही चिट्ठियों का मजमून एक ही है. गुजरात से जाने वाले ज्यादातर प्रवासी इन्हीं दोनों राज्यों से हैं.
कांग्रेस विधायक ने कहा कि वह केवल रेप पीड़िता के लिए इंसाफ मांग रहे थे. लेकिन कुछ लोगों ने इसे राजनीतिक रंग दे दिया. उन्होंने दावा किया कि उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग अफवाहों पर आंख बंद कर विश्वास कर रहे हैं. गुजरात से जा रहे हैं. और हमले सुनियोजित साजिश हैं. अल्पेश ने लिखा कि वो जहां कहीं भी हिंसा हुई है उस पर कड़ी कार्रवाई के पक्ष में हैं.

अल्पेश ने आगे लिखा कि इस पूरे मामले में ठाकोर सेना को घसीटा जा रहा है और इसे राजनीतिक रंग दिया जा रहा है, जबकि सच्चाई यह है कि इस घटना में हमारी कोई भूमिका नहीं है. कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर ने कहा है कि गुरुवार 11 अक्टूबर को वह सद्भावना अनशन पर बैठने जा रहे हैं. और इस अनशन के लिए उन्होंने दोनों प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया है.

इसे भी पढ़ें – पाकुड़ समाहरणालय से लेकर तमाम शहर में डीसी के खिलाफ आजसू की पोस्टरबाजी, कहा – डीसी साहब जनता के सवालों का दें जवाब

बीजेपी ठाकोर सेना को ठहरा रही जिम्मेदार

उल्लेखनीय है कि गुजरात की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ठाकोर और उनके संगठन गुजरात क्षत्रिय-ठाकोर सेना को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहरा रही है. इन हमलों के सिलसिले में दर्ज कुछ प्राथमिकियों में भी इस संगठन का नाम है. ज्ञात हो कि चौदह महीने की एक बच्ची के साथ कथित रूप से रेप करने को लेकर 28 सितंबर को बिहार के एक मजदूर की गिरफ्तारी के बाद हिंसा भड़क गयी थी. बच्ची ठाकोर समुदाय से है.

इसे भी पढ़ेंःकोर्ट, पीएमओ, राष्ट्रपति, सीएम, मंत्रालय, नीति आयोग और कमिश्नर किसी की परवाह नहीं है कल्याण विभाग को

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: