न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीआइटी थाना परिसर में मुंशी ने फांसी लगाकर दी जान

घटना के पीछे पारिवारिक विवाद की बात सामने आयी है. दीपक जमशेदपुर के मूल निवासी थे.

852

Ranchi : बीआइटी थाने में पदस्थापित मुंशी दीपक कुमार पटेल ने शुक्रवार को थाना परिसर स्थित अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. घटना के पीछे पारिवारिक विवाद की बात सामने आयी है.

दीपक जमशेदपुर के मूल निवासी थे. उन्होंने दोपहर करीब तीन बजे फांसी लगायी. चार बजे तक साथी पुलिसकर्मियों को घटना की जानकारी मिली. मौके पर पहुंचे वरीय पुलिस अधिकारियों ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है.

घटना की जानकारी दीपक के परिवार वालों को भी दे दी गयी है. वे जमशेदपुर से रांची के लिए रवाना हो गये हैं. सदर डीएसपी ने कहा कि मुंशी दीपक कुमार पटेल के परिवार वालों से बातचीत के बाद ही पता चल सकेगा कि दीपक ने आत्महत्या क्यों की.

इसे भी पढ़ें : IPRD : प्रेस बयान बनाने के लिए पत्रकारों को नियुक्त कर लिये, अब चार माह से नहीं दे रहे वेतन, कई ने काम छोड़ा

खाना खाने के बहाने कमरे में गये थे

बीआइटी थाना परिसर में मुंशी ने फांसी लगाकर दी जानपुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मुंशी दीपक कुमार पटेल को देखकर किसी ने भी तनाव का अंदाजा नहीं लगाया था. शुक्रवार को वह खाना खाने के बहाने कमरे में गये थे.

काफी देर तक नहीं निकले तो अन्य कर्मचारियों ने आवाज लगायी. अंदर से जवाब नहीं मिला तो वे कमरे के पीछे खिड़की से झांकने गये, देखा कि दीपक पंखे के सहारे फंदे से लटक रहे थे.

घटना की जानकारी मिलने पर अन्य पुलिसकर्मी कमरे में पहुंचे और दीपक को नीचे उतारा. तब तक उनकी मौत हो चुकी थी.

इसे भी पढ़ें : गढ़वा: मथुरा एवं वृंदावन की तरह मनती है जन्माष्टमी, दूसरा वृंदावन है श्री बंशीधर नगर

एक दिन पूर्व रातू थाने में आरोपी ने लगायी थी फांसी 

इससे पहले रातू थाने के हाजत में बंद चोरी के आरोपी नेसार अंसारी (23 वर्ष) ने गुरुवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. उसने कंबल फाड़कर उससे फंदा बनाया और फांसी लगा ली.

इसे भी पढ़ें : जानें उन बीजेपी के दिग्गजों को जिनके सुपुत्र उतर सकते हैं विधानसभा चुनावी दंगल में!

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: