न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

4 घंटे में 2 किलो वजन कम कर मैरीकॉम ने जीता गोल्‍ड मेडल

206

New Delhi: आप अपना दो किलो वजन के लिए कितनी मेहनत कर सकते हैं और कितने समय में कर सकते हैं. यकीनन किसी के लिए दो किलो वजन कम करना मुश्किल नहीं है. लेकिन, क्‍या कोई अपना 2 किलो वजन सिर्फ 4 घंटे में कम कर सकता है. यकीन करना मुश्किल है. लेकिन, इस नामुमकिन को मुमकिन कर दिखाया है नामचीन बॉक्‍सर मैरीकॉम ने. यह वही मैरीकौम हैं, जिस पर कुछ साल पहले बायोपिक बनी थी और प्रियंका चोपड़ा ने मैरीकौम की भूमिका निभायी थी.

इसे भी पढ़ें: कैरियर के इस चरण पर विराट की सचिन से तुलना गलत : रिकी पोंटिंग

मैरीकॉम को क्‍यों घटाना पड़ा 4 घंटे में 2 किलो वजन

पोलैंड के गिलवाइस में हाल ही संपन्न 13वें सिलेसियन मुक्केबाजी टूर्नामेंट लिए मैरीकौम जब वहां पहुंची तो उनका वजन दो किलो ज्यादा था और टूर्नामेंट के लिए वजन करने के लिए उनके पास चार घंटे का समय था. उन्होंने ना सिर्फ इस चुनौती को पूरा किया बल्कि, टूर्नामेंट में गोल्‍ड मेडल भी अपने नाम किया. यह इस साल का उनका तीसरा पीला तमगा है.

इसे भी पढ़ें: एशिया कपः भारत-पाक मैच देखने जा सकते हैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान

silk_park

मैरीकॉम ने बताया कैसे की वजन कम

पांच बार की विश्व चैम्पियन मैरीकौम ने कहा कि स्वदेश वापसी के बाद हम लगभग तीन- साढ़े तीन बजे सुबह पोलैंड पहुंचे और टूर्नामेंट के लिए वजन कार्यक्रम सुबह साढ़े सात बजे होना था. मुझे 48 किलोग्राम भार वर्ग में भाग लेना था और मेरा वजन उससे दो किलो ज्यादा था. मेरे पास वजन कम करने के लिए लगभग चार घंटे का समय था ऐसा नहीं करने पर मैं डिस्क्वालीफाई हो जाती. मैंने लगातार एक घंटे तक स्कीपिंग (रस्सी कूद) की और फिर मैं वजन के लिए तैयार थी. मैरीकौम ने आगे बताया कि हमारे लिए अच्छी बात यह थी कि जिस विमान में हम यात्रा कर रहे थे वह लगभग पूरा खाली था इसलिए मैं पैर फैलाकर अच्छे से सो सकी. ताकि, वहां पहुंचने पर ज्यादा थकावट नहीं रहे. नहीं तो मुझे नहीं पता कि मैं टूर्नामेंट में भाग ले पाती या नहीं.’’

मणिपुर की यह खिलाड़ी टूर्नामेंट के सीनियर वर्ग में स्वर्ण जीतने वाली इकलौती भारतीय खिलाड़ी हैं. मैरीकॉम दो महीने में 36 साल की हो जाएंगी. लेकिन, इस मुक्केबाज ने यह साफ कर दिया कि वह 2020 ओलंपिक तक अपना खेल जारी रखेंगी.

उन्होंने बताया कि नवंबर में होने वाली विश्व चैम्पियनशिप मेरा अंतिम टूर्नामेंट नहीं होगा. मैं 2020 ओलंपिक तक कहीं नहीं जा रही, बशर्ते मैं फिट रहूं. मैं अपनी कमियों को जानती हूं. लेकिन, मुझे अपने मजबूत पक्षों के बारे में भी पता है. अगर कोई चोट लगती है. तब आगे की योजना के बारे में सोचूंगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: