NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनाव से पहले कई बीजेपी दिग्गजों की गिरिडीह लोकसभा सीट पर है नजर !

ढुल्लू महतो और शिव शक्ति बख्शी टिकट के लिए लगा रहे हैं ज़ोर !

2,385

Akshay Kumar Jha
Ranchi: तीन जिला (बोकारो, गिरिडीह और धनबाद) और पांच विधानसभा क्षेत्र (गोमिया, बेरमो, टुंडी, बाघमारा और गिरिडीह) में फैले गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र पर बीजेपी के कई दिग्गजों की गिद्ध जैसी नजर है. यह चौंकाने वाली बात इसलिए है, क्योंकि लगातार इस सीट पर बीजेपी की जीत का पताका फहरता रहा है. वर्तमान सांसद रवींद्र पांडे पांच बार यहां से सांसद का चुनाव जीत चुके हैं. बावजूद इसके बीजेपी के दूसरे दिग्गजों को लगता है कि आने वाले लोकसभा चुनाव में उन्हें बीजेपी की तरफ से टिकट मिल सकता है. वो इसके लिए प्रयास भी कर रहे हैं और क्षेत्र का दौरा भी कर रहे हैं. हालांकि इस सीट के लिए पार्टी किस उम्मीदवार पर भरोसा करती है, इस बारे किसी भी तरह का आंकलन करना जल्दबाजी होगी.

इसे भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव से पहले कोयलांचल बीजेपी में हंगामा क्यों है बरपा

आखिर क्यों बीजेपी किसी दूसरे उम्मीदवार को देगी टिकट

वर्तमान सांसद रविंद्र पांडे 1996, 1998, 1999, 2009 और 2014 में गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीत चुके हैं. पिछले बार इन्होंने जेएमएम के जगरनाथ महतो को करीब 40,000 वोट से हराया था. मोदी लहर के वक्त सिर्फ 40,000 वोट से पीछे रहने की वजह से जगरनाथ महतो को एक मजबूत सांसद के उम्मीदवार के रूप में जनता देख रही है. दरअसल बीजेपी के कुछ राजनीतिक महत्वाकांक्षा रखने वाले नेता यह मान रहे हैं कि पार्टी में रवींद्र पांडे का कद घटा है. इसके पीछे कुछ वजहें है.

इसे भी पढ़ें-सुदेश महतो ने तीसरी बार एेलान किया, 2019 का चुनाव अपने दम पर सभी सीटों पर लड़ेंगे

  • 20 दिसंबर 2017 को रवींद्र पांडे का नाम सभी अखबारों और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का हेडलाइन बना था. खोजी पत्रकारिता के लिए मशहूर कोबरा पोस्ट डॉट कॉम ने एक खबर ब्रेक की. खबर के मुताबिक रवींद्र पांडे पर तेल कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए सरकार को खत लिखने का मामला था. इस खबर को विपक्ष ने भ्रष्टाचार से भी जोड़ कर परोसने की कोशिश की थी. काफी हो-हंगामा हुआ था. मोदी सरकार क्लीन इमेज पर इसे एक दाग की तरह देखा जा रहा है.

 

  • फरवरी 2018 में बोकारो और आस-पास के बीजेपी कार्यकर्ताओं ने रवींद्र पांडे के खिलाफ बिगुल फूंक दी. कार्यकर्ताओं का कहना था कि इस बार लोकसभा चुनाव में किसी फ्रेस कैंडिडेट को मौका मिले. यहां तक कि कार्यकर्ताओं ने बीजेपी बचाव कैंपेन भी शुरू कर दिया.

 

  • कार्यकर्ता जनता के बीच जाकर रवींद्र पांडे को वोट नहीं देने का अपील करने लगे. ऐसा इस लोकसभा क्षेत्र में पहली बार देखा गया कि किसी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने अपने ही सीनियर लीडर को वोट नहीं देने के लिए पंपलेट छपवाया और बंटवाया. कार्यकर्ताओं का कहना था कि रवींद्र पांडे सांसद के लिए योग्य उम्मीदवार नहीं है. बांटे गए पंपलेट में बिंदुवार नौ बातों का उल्लेख था कि आखिर वो रवींद्र पांडे को वोट क्यों ना करे.

 

  • दिसंबर और फरवरी की इन दोनों घटना के बाद बीजेपी से शीर्ष स्तर पर सांसद रवींद्र पांडे को लेकर कई तरह की बात होने लगी. पार्टी के अंदर खाने के लोगों का कहना है कि अगला लोकसभा चुनाव साफ, सुथरी छवि वाले उम्मीदवार के दम पर लड़ना है, ऐसे में वर्तमान सांसद को टिकट लेने में एड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ सकता है.

ढुल्लु महतो के अलावा शिव शक्ति बख्शी भी रेस में

madhuranjan_add

ढुल्लू महतो गिरिडीह सीट से बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते हैं. इस काम में सबसे बड़ा रोड़ा रवींद्र पांडे हैं. पहले तो सारा खेल पर्दे के पीछे हो रहा था, लेकिन चुनाव नजदीक आने की वजह से अब खुल्मखुल्ला ललकार का दौर जारी है. ढुल्लू महतो टिकट को लेकर रेस हैं. ढुल्लू महतो के अलावा एक नया नाम गिरिडीह लोकसभा के लिए निकल कर आजकल सामने आ रहा है. नाम है शिव शक्ति बख्शी. शिव शक्ति बख्शी जेएनयू में एवीबीपी की राजनीति को परवान चढ़ा चुके हैं. वो कमल संदेश के कार्यकारी संपादक हैं. शिव शक्ति बख्शी गिरिडीह के बेंगाबाद के रहने वाले हैं. हाल ही में उन्होंने बेरमो विधानसभा का दौरा किया. वहां के वरीय पत्रकारों से अनऑफिशियली चुनाव लड़ने की बात पर चर्चा की. लेकिन न्यूज विंग से बात के दौरान उन्होंने कहा कि मैं गिरिडीह का रहने वाला हूं. आता-जाता हूं तो लोग चुनाव लड़ने की बात करने लगते हैं. लेकिन ऐसी कोई बात नहीं है. पार्टी ने जो काम मुझे सौंपा है, वो ही कर रहा हूं. लोकसभा चुनाव लड़ने की मेरी कोई योजना नहीं है.

इसे भी पढ़ें-दिन भर गांजा पी कर जहां-तहां रात गुजारते हैं रविन्द्र पांडे- ढुल्लू महतो

इन दोनों के अलावा लोकसभा चुनाव लड़ने की महत्वाकांक्षा रखने वालों में बोकारो विधायक बीरंची नारायण, पूर्व विधायक राजकिशोर महतो अन्य शामिल हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: