न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JharkhandElection: 1 लाख 17 हजार सरकारी नौकरी देने का दावा झूठा, सही आंकड़ा है 38,029

1,163

Kumar Gaurav

Ranchi : झारखंड में विधानसभा चुनाव के दौरान सरकार  अपने कार्य गिनाकर वोटरों को लुभा रही है. इसके साथ-साथ वह एक झूठा दावा भी कर रही है. यह दावा रोजगार देने से संबंधित है.

Sport House

सरकार दावा कर रही है कि रघुवर दास के कार्यक्रम में 1 लाख 17 हजार सरकारी नौकरियां दी गयी हैं, जबकि हकीकत में एक चौथाई की संख्या में भी नौकरियां नहीं दी गयीं.

सरकार अपने पांच साल के कार्यकाल में शिक्षक नियुक्ति और पुलिस विभाग की नियुक्तियों में 33,609 युवाओं को नौकरी दी सकी. इसके अलावा सिर्फ 4420 पदों पर ही नियुक्ति करा सकी.

ये आंकड़े नियुक्ति विज्ञापन में दी गयी कुल पदों की संख्या से हैं जिसमें भी सभी पदों पर सरकार ज्वाइनिंग नहीं दे सकी है.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें : #DoubleEngine की सरकार में शिक्षा का निजीकरण: 11 प्राइवेट यूनिवर्सिटी खुलीं, सरकारी मात्र दो 

जेपीएससी और जेएसएससी ने कई पदों पर निकाले आवेदन, नियुक्ति नहीं करा सके

ऐसा नहीं है कि सरकार ने नियुक्ति के लिए विज्ञापन नहीं निकाले. सिर्फ जेपीएससी ने 50 से अधिक विज्ञापन विभिन्न पदों के लिए जारी किये हैं. पर अधिकतर परीक्षाओं को तीन साल से अधिक समय के बाद या तो रद्द कर दिया गया या पुनः आवेदन मांगे गये हैं.

जेएसएससी ने भी प्रत्येक साल होने वाली परीक्षाओं के लिए पांच साल में सिर्फ एक बार ही आवेदन मंगाया.

उर्जा विभाग और नगर निगम जो अपने स्तर से नियुक्ति करते हैं, उनमें भी एक बार ही नियुक्ति हो पायी.

इसके अलावा नगर विकास विभाग में नियुक्ति अनुबंध के अलावा स्थायी पदों पर भी कराने की बात कही गयी थी पर एक साल होने के बाद भी नियुक्ति प्रक्रिया में कोई सुगबुगाहट नहीं दिखाई दी.

इसे भी पढ़ें : हद है! ये एक इंस्पेक्टर व चार दारोगा रहेंगे तभी लातेहार पुलिस करा पायेगी शांतिपूर्ण व निष्पक्ष चुनाव

Related Posts

सोनुवा में पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधियों के बीच हिंसक झड़प,  सात के मरने की खबर, दो लापता

घटना गुलीकेरा ग्राम पंचायत के बुरुगुलीकेरा गांव की है. सूचना है कि हत्या करने के बाद सभी लोगों के शव गांव के पास स्थित जंगल में फेंक दिये गये हैं.

पांच सालों में एक भी जेपीएससी पूरा नहीं कराना सरकार की बड़ी नाकामी

पांच सालों में भी छठी सिविल सेवा परीक्षा को पूरा नहीं करा पाना वर्तमान सरकार की सबसे बड़ी नाकामियों में से एक है.

छठी सिविल सेवा परीक्षा लगातार विवादों में रही है. आचार संहिता लागू होने  से पंद्रह दिन पहले मात्र इंटरव्यू के लिए तारीख निर्धारित की गयी थी. हालांकि अभी तक मेंस का रिजल्ट जारी नहीं हो सका है.

किन पदों पर कितनी नियुक्तियां हुईं

हाईस्कूल 16,584

दरोगा बहाली 2600

झारखंड पुलिस 530

रेस्ट गार्ड 695

प्राथमिक शिक्षक 7,384

टीवीएनएल 102

नगर निगम 223

उर्जा विभाग जेई 123

इसे भी पढ़ें : यूं ही रघुवर और सरयू की दूरियां नहीं बढ़ी, जनिये मंत्री रहते सरकार पर कब कैसे किया वार, पढ़ें पांच साल के ट्विट्स

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like