न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में पहली बार जंगल और संसाधनों का होगा ऑडिट, वन विभाग ने निकाला टेंडर

937
  • अगले 10 साल की आवश्यकता को देखते हुए जंगल और संसाधनों का होगा ऑडिट
  • ऑडिट में ग्रामीण आजीविका का भी रखा जायेगा ध्यान, जंगल पर दबाव कम करने के खोजे जायेंगे उपाय
  • वन विभाग की खाली पड़ी 1690973.13 एकड़ जमीन पर होगा पौधारोपण

Ranchi: झारखंड में पहली बार प्रदेश के जंगल, उसे संसाधनों की ऑडिटिंग कराई जायेगी. इसके लिये वन विभाग ने टेंडर निकाला है. टेंडर 27 मार्च को खुलेगा. जंगल का ऑडिट 23605 वर्ग किलोमीटर के दायरे में किया जायेगा. आने वाली पीढ़ी को ध्यान में रखते हुये यह ऑडिट किया जायेगा. इसमें खासतौर पर वैसे ग्रामीण जिनकी आजीविका जंगल के संसाधनों पर निर्भर है, उनका भी ब्योरा तैयार किया जायेगा. साथ ही जंगल के 33 फीसदी लक्ष्य को हासिल करने का भी ब्योरा तैयार होगा. वर्तमान में झारखंड में जंगल का प्रतिशत 29 फीसदी से अधिक है. जबकि राष्ट्रीय औसत 33 फीसदी है.

इसे भी पढ़ेंःमध्यस्थता के जरिये सुलझेगा अयोध्या विवाद, SC ने बनायी तीन सदस्यीय मध्यस्थता कमेटी

अगले 10 साल में मानव संसाधन की जरूरत भी

ऑडिट में अगले 10 साल में मानव संसाधन की आवश्यकता को भी ध्यान में रखा जायेगा. जंगल की सुरक्षा व संरक्षण के साथ वातावरण में हो रहे परिवर्तन को देखते हुये पूरा खाका खींचा जायेगा. जैव विविधता को बढ़ाने के उपाये भी खोजे जायेंगे. इसके अलावा नेशनल पार्क, सेंचुरी, ब्रीडिंग सेंटर और जू के बेहतर प्रबंधन का ब्योरा तैयार किया जायेगा.

जंगल की खाली पड़ी 16.90 एकड़ जमीन पर पौधारोपण

जंगल की खाली पड़ी 1690973.13 एकड़ जमीन (वेस्टलैंड) पर पौधोरोपण करने की योजना है. जिससे जंगल के घनत्व में वृद्धि हो. इस खाली पड़ी जमीन में एग्रोफॉरेस्ट्री, हॉर्टीकल्चर को बढ़ावा दिया जायेगा. इसके अलावा कदम, नीम, बांस, तसर, करंज, आंवला, सहजन के पौधे लगाये जायेंगे. इसके अलावा औषधीय पौधे की प्रोसेसिंग की भी योजना बनाई गई है.

इसे भी पढ़ेंःसपा ने जारी की पहली लिस्टः 6 उम्मीदवारों में से तीन परिवार के, मैनपुरी से लड़ेंगे मुलायम

वन विभाग की खाली पड़ी है कितनी जमीन

जिलाखाली पड़ी जमीन (हेक्टेयर में)
सिमडेगा30740.51
गुमला40541.14
लोहरदगा5818.43
रांची126497.42
लातेहार16768.76
मेदिनीनगर17471.29
गढ़वा29184.22
पश्चिमी सिंहभूम49721.03
सरायकेला-खरसांवा15669.16
पूर्वी सिंहभूम32756.46
दुमका45537.51
जामताड़ा21358.19
देवघर27161.31
गोड्डा21300.89
पाकुड़23858.76
साहेबगंज29801.30
गिरिडीह40578.41
धनबाद20497.41
बोकारो30234.6
कोडरमा8273.39
चतरा15393.03
हजारीबाग35148.67

नोट: कुल खाली पड़ी जमीन 684312.55 हेक्टेयर है. इसे एकड़ में बदलने पर 1690973.13 एकड़ होता है.

इसे भी पढ़ेंःअंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष : जिंदगी का सफर मुश्किल था, मगर कभी हार नहीं मानी रजिया बेगम ने

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: