RanchiTop Story

झारखंड में पहली बार जंगल और संसाधनों का होगा ऑडिट, वन विभाग ने निकाला टेंडर

  • अगले 10 साल की आवश्यकता को देखते हुए जंगल और संसाधनों का होगा ऑडिट
  • ऑडिट में ग्रामीण आजीविका का भी रखा जायेगा ध्यान, जंगल पर दबाव कम करने के खोजे जायेंगे उपाय
  • वन विभाग की खाली पड़ी 1690973.13 एकड़ जमीन पर होगा पौधारोपण

Ranchi: झारखंड में पहली बार प्रदेश के जंगल, उसे संसाधनों की ऑडिटिंग कराई जायेगी. इसके लिये वन विभाग ने टेंडर निकाला है. टेंडर 27 मार्च को खुलेगा. जंगल का ऑडिट 23605 वर्ग किलोमीटर के दायरे में किया जायेगा. आने वाली पीढ़ी को ध्यान में रखते हुये यह ऑडिट किया जायेगा. इसमें खासतौर पर वैसे ग्रामीण जिनकी आजीविका जंगल के संसाधनों पर निर्भर है, उनका भी ब्योरा तैयार किया जायेगा. साथ ही जंगल के 33 फीसदी लक्ष्य को हासिल करने का भी ब्योरा तैयार होगा. वर्तमान में झारखंड में जंगल का प्रतिशत 29 फीसदी से अधिक है. जबकि राष्ट्रीय औसत 33 फीसदी है.

इसे भी पढ़ेंःमध्यस्थता के जरिये सुलझेगा अयोध्या विवाद, SC ने बनायी तीन सदस्यीय मध्यस्थता कमेटी

ram janam hospital
Catalyst IAS

अगले 10 साल में मानव संसाधन की जरूरत भी

The Royal’s
Sanjeevani

ऑडिट में अगले 10 साल में मानव संसाधन की आवश्यकता को भी ध्यान में रखा जायेगा. जंगल की सुरक्षा व संरक्षण के साथ वातावरण में हो रहे परिवर्तन को देखते हुये पूरा खाका खींचा जायेगा. जैव विविधता को बढ़ाने के उपाये भी खोजे जायेंगे. इसके अलावा नेशनल पार्क, सेंचुरी, ब्रीडिंग सेंटर और जू के बेहतर प्रबंधन का ब्योरा तैयार किया जायेगा.

जंगल की खाली पड़ी 16.90 एकड़ जमीन पर पौधारोपण

जंगल की खाली पड़ी 1690973.13 एकड़ जमीन (वेस्टलैंड) पर पौधोरोपण करने की योजना है. जिससे जंगल के घनत्व में वृद्धि हो. इस खाली पड़ी जमीन में एग्रोफॉरेस्ट्री, हॉर्टीकल्चर को बढ़ावा दिया जायेगा. इसके अलावा कदम, नीम, बांस, तसर, करंज, आंवला, सहजन के पौधे लगाये जायेंगे. इसके अलावा औषधीय पौधे की प्रोसेसिंग की भी योजना बनाई गई है.

इसे भी पढ़ेंःसपा ने जारी की पहली लिस्टः 6 उम्मीदवारों में से तीन परिवार के, मैनपुरी से लड़ेंगे मुलायम

वन विभाग की खाली पड़ी है कितनी जमीन

जिला खाली पड़ी जमीन (हेक्टेयर में)
सिमडेगा 30740.51
गुमला 40541.14
लोहरदगा 5818.43
रांची 126497.42
लातेहार 16768.76
मेदिनीनगर 17471.29
गढ़वा 29184.22
पश्चिमी सिंहभूम 49721.03
सरायकेला-खरसांवा 15669.16
पूर्वी सिंहभूम 32756.46
दुमका 45537.51
जामताड़ा 21358.19
देवघर 27161.31
गोड्डा 21300.89
पाकुड़ 23858.76
साहेबगंज 29801.30
गिरिडीह 40578.41
धनबाद 20497.41
बोकारो 30234.6
कोडरमा 8273.39
चतरा 15393.03
हजारीबाग 35148.67

नोट: कुल खाली पड़ी जमीन 684312.55 हेक्टेयर है. इसे एकड़ में बदलने पर 1690973.13 एकड़ होता है.

इसे भी पढ़ेंःअंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष : जिंदगी का सफर मुश्किल था, मगर कभी हार नहीं मानी रजिया बेगम ने

Related Articles

Back to top button