JamtaraJharkhand

टिड्डी दल को लेकर अलर्ट पर है जामताड़ा प्रशासन, गठित की टीम

jamtara: टिड्डी दलों ( Grasshopper Team ) के हमले से फसल के नुकसान की आशंका को देखते हुए जिला प्रशासन अलर्ट ( Jamtara aAdministration is on Alert ) पर है. इसको लेकर उप विकास आयुक्त जामताड़ा नागेंद्र कुमार सिन्हा ( Jamtara DDC Nagendra Kumar Sinha ) की अध्यक्षता में संबंधित पदाधिकारियों के साथ एक बैठक हुई.  बैठक में उप विकास आयुक्त ने उपस्थित विभागीय पदाधिकारियों को अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया.

 

जिला स्तरीय टिड्डी नियंत्रण कार्यदल का गठन

बैठक में उप विकास आयुक्त ने जिला स्तरीय टिड्डी नियंत्रण दल का गठन किया, जिसमें उपविकास आयुक्त कार्यदल के अध्यक्ष होंगे। जिला कृषि पदाधिकारी संयोजक एवं वन प्रमंडल पदाधिकारी, जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला उद्यान पदाधिकारी, अग्निशमन पदाधिकारी, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, कनीय पौधा संरक्षण पदाधिकारी एवं कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक सदस्य होंगे.

 

Catalyst IAS
ram janam hospital

ये भी पढ़ें- Ranchi University: यूजी, पीजी और इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स को किया गया प्रमोट, 80 हजार छात्रों को मिला लाभ

 

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

उप विकास आयुक्त ने बैठक में जिला कृषि पदाधिकारी को टिड्डी नियंत्रण के लिए रासायनिक कीटनाशिकों की भंडारण की पर्याप्तता का आकलन करने को कहा है. साथ ही बाजार में कितना स्टॉक उपलब्ध हैं, जिले मे कितना संभावित खपत हो सकता है और इस पर कितना व्यय होगा, इसका आकलन कर जिला को प्रतिवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया है, ताकि राशि की मांग विभाग से त्वरित की जा सके.

 

 

उन्होंने हाईस्पीड-लोवोल्यूम स्प्रेयर, पावर स्प्रेयर, गटोर स्प्रेयर, नैप सैक स्प्रेयर, वाहन पर प्रतिष्ठापित किए जाने वाले स्प्रेयर आदि की उपलब्धता की जानकारी लिया। बाजार में संबंधित रसायन हैं या नहीं इसका पता लगाने का भी निर्देश दिया.

 

 

ऑडियो क्लिप करें तैयार 

उप विकास आयुक्त ने जनसंपर्क टीम को किसानों को टिड्डी दल से फसलों के नुकसान एवं उससे बचाव के प्रति जागरूक करने का निर्देश दिया है. साथ ही कृषि विभाग को जागरूकता संबंधित ऑडियो क्लिप तैयार करने को कहा है, जिससे प्रखंडों को उपलब्ध कराकर विभिन्न वाहनों से माइकिंग कराया जा सके.

 

 

प्रखंड स्तरीय टीम गठित करें BDO

उप विकास आयुक्त ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे प्रखंड स्तरीय टीम गठित करें, जिसमें प्रखंड विकास पदाधिकारी अध्यक्ष, प्रखंड कृषि पदाधिकारी सदस्य, प्रखंड तकनीकी प्रबंधक संयोजक, सहायक तकनीकी प्रबंधक सदस्य, वरीय जनसेवक सदस्य, प्रत्येक पंचायत से एक कृषक मित्र सदस्य होंगे.

 

ये भी पढ़ें- चार बच्‍चों का बाप बना हैवान, दिव्‍यांग युवती को घर में अकेली पाकर किया दुष्‍कर्म

 

 

 

सावधानीपूर्वक किया जाएगा टिड्डी दल का सफाया

जिला कृषि पदाधिकारी सबन गुड़िया ने कहा कि टिड्डी दल के आक्रमण की अवस्था में पारंपरिक उपाय यथा धुआं उत्पन्न कर तथा ढोल-नगाड़े, बर्तन आदि पीटकर टिड्डी दल को भगाने का कार्य किया जाता है। जब टिड्डी दल रात्रि विश्राम के लिए बैठे, तब सभी सुरक्षा के उपायों का ध्यान रखते हुए उन पर कीटनाशकों का सावधानीपूर्वक प्रयोग करना होता है ताकि टिड्डी दल का सफाया किया जा सके।

 

ये भी पढ़ें- ‘UGC के गाइड लाइन के अनुसार बिना परीक्षा लिए ही फस्ट और सेकंड ईयर के छात्रों को दी जाए प्रमोशन’

जिला कृषि पदाधिकारी ने कहा कि कृषक मित्रों के माध्यम से ग्राम स्तर पर टिड्डी दल नियंत्रण के पारंपरिक उपायों तथा आधुनिक उपायों का प्रचार प्रसार करवाना तथा ग्रामीण हाट बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कि टिड्डी दल के नियंत्रण के संबंध में जागरूकता फैलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button