Education & CareerJharkhandRanchi

29 दिसंबर को नियमावली की घोषणा हुई तो मिलेगी फूलों की माला, वरना होगा व्यापक विरोध

  •  12 दिसंबर को जिला और 19 दिसंबर को प्रखंड इकाई की तैयारी बैठ
  • 13 एवं 14 दिसंबर को सभी विधायक, मंत्री को सौंपेंगे ज्ञापन

Ranchi : एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के राज्य इकाई की बैठक मोराबादी मैदान रांची में आयोजित की गयी. बैठक की अध्यक्षता संयोजक बिनोद बिहारी महतो ने की जबकि संचालन संजय कुमार दुबे ने किया. राज्य कमेटी के सदस्यों ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने विधानसभा चुनाव 2019 के पूर्व की प्रत्येक चुनावी सभा में सरकार बनने के तीन माह के अंदर राज्य के तमाम पारा शिक्षकों को स्थायी करते हुए वेतनमान देने का वायदा किया था जो आज दो वर्ष बीतने के बावजूद तक पूरा नहीं हो सका है.

इसे भी पढ़ें : अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठे नवजोत सिंह सिद्धू, लगाई आरोपों की झड़ी

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो, विभागीय अधिकारियों और एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के शिष्टमंडल के बीच कई दौर की वार्ता हुई है. जिसमें अंतिम विधिवत वार्ता में (07 एवं 18 अगस्त 2021) बिहार मॉडल पर आधारित नियमावली को लागू करने की बात तय हुई है. 13 नवंबर को शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के साथ एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा की वार्ता में स्पष्ट रूप से बताया गया कि विभाग द्वारा तैयार प्रस्तावित नियमावली को तमाम प्रक्रिया (विधि, वित, कार्मिक एवम कैबिनेट) पूर्ण कराते हुए 29 दिसंबर 2021 को सरकार के दो वर्ष पूर्ण होने पर होनेवाले कार्यक्रम में मुख्यमंत्री द्वारा लागू करने की घोषणा की जाएगी.

अब राज्य के तमाम पारा शिक्षक आश्वासन से तंग आ गए हैं. 12 दिसंबर से नियमावली को लागू कराने हेतु सांगठनिक गतिविधियां प्रारंभ की जाएंगी. 12 दिसंबर को राज्य के सभी जिला कमेटी की बैठक होगी. 19 दिसंबर को राज्य के सभी प्रखंड कमेटी की बैठक कर रांची कुच की तैयारी को अंतिम रूप दिया जाएगा. 13 और 14 दिसंबर को राज्य के सभी मंत्री एवं विधायक को उनके विधानसभा क्षेत्र के पारा शिक्षक मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपेंगे.

इसके बाद राज्य के तमाम पारा शिक्षक 29 दिसंबर 2021 को सरकार के दो वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में नियमावली की घोषणा के साक्षी बनने हेतु फूल माला के साथ मोराबादी मैदान पहुंचेंगे. नियमावली लागू करने की घोषणा के साथ हीं संघीय शिष्टमंडल मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री सहित तमाम मंत्रियों को पुष्पहार समर्पित करेगा.

इसे भी पढ़ें : बिहार से 20 वर्षों बाद शहर पहुंचा बड़ा भाई, घर में घुसकर सभी को पीटा, मकान कब्जाया

यदि नियमावली लागू करने की घोषणा नहीं हुई तो कार्यक्रम सहित राज्य भर में व्यापक विरोध किया जाएगा जिसकी संपूर्ण जवाबदेही राज्य सरकार की होगी. आज की बैठक में बिनोद बिहारी महतो, संजय कुमार दुबे, ऋषिकेश पाठक, प्रमोद कुमार, दशरथ ठाकुर, मोहन मंडल, प्रद्युम्न कुमार सिंह (सिंटू) मौजूद थे.

Advt

Related Articles

Back to top button