Lead NewsNational

अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठे नवजोत सिंह सिद्धू, लगाई आरोपों की झड़ी

New Delhi : पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर सामने धरना दे रहे हैं. दरअसल,दिल्ली सरकार के गेस्ट टीचर स्थायी नौकरी की मांग को लेकर सीएम केजरीवार के घर के बाहर धरना पर बैठे हैं. उनका साथ देने के लिए सिद्धू उनके साथ धरना पर बैठ गए और नारे भी लगाए. उन्होंने नारा लगाया, ‘ऊंची दुकान फीके पकवान.’ इस प्रदर्शन में ऑल इंडिया गेस्ट टीचर्स एसोसिएशन (AIGTA) नवजोत सिंह सिद्धू का साथ दे रही है.

इसे भी पढ़ें : BIG NEWS : झारखंड पुलिस की बड़ी सफलता, PLFI का एरिया कमांडर समेत 13 नक्सली गिरफ्तार

advt

सिद्दू ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में 22 हजार गेस्ट टीचर्स से मजदूरों की तरह काम कराया जा रहा है. उनसे दिहाड़ी मजदूरी करवाई जा रही है. नीति बनाकर विकास करना चाहिए. अरविंद केजरीवाल ने मायाजाल बिछा रखा है. मैं इनका रेत का महल तोड़कर जाऊंगा.

पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने पिछले महीने पंजाब के मोहाली में कॉन्ट्रैक्ट टीचर्स के विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के लिए केजरीवाल की खिंचाई की. उन्होंने कहा कि पंजाब में लोगों को लुभाने के लिए आने से पहले आपको पहले अपने राज्य के मुद्दों को सुलझाना चाहिए. उन्हें बताना चाहिए दिल्ली के गेस्ट टीचर्स के लिए उन्होंने क्या किया है?

दिल्ली का शिक्षा मॉडल एक कॉन्ट्रैक्ट मॉडल

सिद्धू ने ट्वीट कर कहा, ‘दिल्ली में 1031 सरकारी स्कूल हैं जबकि केवल 196 स्कूलों में प्रिंसिपल हैं. टीचर्स के 45 फीसदी पद खाली हैं और 22,000 गेस्ट टीचर्स की मदद से डेली वेजेस देकर सरकारी स्कूल चलाए जा रहे हैं, हर 15 दिन में कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू किया जाता है.’

ट्विटर पर लगाई आरोपों की झड़ी

आगे उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘आप’ ने संविदा शिक्षकों को स्थायी कर्मचारियों के समान वेतन देने का वादा किया था, लेकिन गेस्ट टीचरों के होने से स्थिति और खराब हो गई. स्कूल प्रबंधन समितियों (SMC) के माध्यम से, तथाकथित ‘आप’ वॉलंटियर्स सरकारी फंड से सालाना 5 लाख कमाते हैं, जो पहले स्कूल के विकास के लिए थे.’

बता दें कि 27 नवंबर को, केजरीवाल पंजाब के मोहाली में कॉन्ट्रैक्ट टीचर्स के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे, जो कॉन्ट्रैक्ट टीचर्स की सेवाओं को नियमित करने सहित कई मांगों को लेकर दबाव बना रहे हैं. केजरीवाल ने शिक्षकों के लिए तबादला नीति लागू करने का भी वादा किया था और पार्टी के सत्ता में आने पर उन्हें कैशलेस मेडिकल सुविधा का भी आश्वासन दिया था.

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: