NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हेमंत ने कहा- JMM का कोई भी विधायक नहीं लेगा मॉनसून सत्र का वेतन, स्पीकर को सौंपा ज्ञापन

633
mbbs_add

Ranchi : झारखण्ड मुक्ति मोर्चा झामुमो ने यह फैसला लिया है कि कोई भी विधायक मॉनसून सत्र के दौरान वेतन सरकार से नहीं लेगा और ना ही किसी तरह का कोई भत्ता लेगा. गौरतलब है कि शनिवार को झारखण्ड विधानसभा के मॉनसून सत्र की अवधि समाप्त हो गयी. इसको लेकर प्रतिपक्ष के नेता हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया है. वहीं झामुमो के कार्यवाहक अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने इसे लेकर स्पीकर दिनेश उरांव से मिले और उन्हें एक ज्ञापन भी सौंपा है. मौके पर मीडिया से बात करते हुए हेमंत सोरेन ने कहा है कि वह ‘नैतिकता के आधार पर यह निर्णय लिया है और विपक्ष के दूसरे सहयोगी दलों से भी ऐसी ही अपेक्षा रखते हैं कि वह भी मॉनसून सत्र के दौरान का वेतन नहीं लें. ताकि इसका इस्तेमाल झारखंड की गरीब जनता के विकास के लिए हो सके.

इसे भी पढ़ें- मोदी सरकार के खिलाफ तीन अगस्त को माओवादियों का झारखंड-बिहार बंद

क्या कहा हेमंत सोरेन ने

हेमंत सोरेन ने इसे लेकर कहा कि उनकी पार्टी का कोई भी विधायक वेतन नहीं लेगा. वहीं उस अवधि का वेतन पार्टी मजदूर कल्याण बोर्ड को देना चाहती है. इसे लेकर हेमंत ने स्पीकर दिनेश उरांव से इस बारे में कटौती करने की बात कही है. साथ ही हेमंत ने कहा कि इस बार का मॉनसून सत्र विधानसभा के इतिहास में काला सत्र के रूप में दर्ज होगा.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में सड़कों की गुणवत्ता काफी अच्छी है : रघुवर दास

Hair_club

आखिर विधानसभा के छह दिनों के मॉनसून सत्र में हुआ क्या?

मॉनसून सत्र को लेकर छह दिनों तक विधानसभा में गहमा-गहमी बनी रही. विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव, मुख्यमंत्री रघुवर दास, नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन के अलावा तमाम विधायक बड़ी-बड़ी गाड़ियों से बॉडीगार्ड के साथ विधानसभा पहुंचे. विधानसभा में पत्रकारों का मजमा लगा रहा. तो सवाल उठता है कि आखिर इन छह दिनों में हुआ क्या. हुआ यह कि-

  • मंत्री सीपी सिंह ने कई विधायकों को देशद्रोही कहा.
  • सीपी सिंह ने स्वामी अग्निवेश को विदेश का दलाल बताया.
  • हेमंत सोरेन ने मुख्यमंत्री को प्रवासी मुख्यमंत्री कहा.
  • मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हेमंत सोरेन को सीएनटी एक्ट तोड़नेवाला नेता बताया.
  • हेमंत सोरेन ने सीपी सिंह को बुजुर्ग कहा, तो सीपी सिंह ने कहा कि गाली मत दो.
  • विधानसभा अध्यक्ष सदन चलाने के लिए विधायकों को समय-समय पर असर न करनेवाला पाठ पढ़ाते रहे.
  • सीपी सिंह ने बाबूलाल मरांडी को होटवार जेल भेजने की बात कही.
  • मुख्यमंत्री ने तू-तड़ाक की भाषा में प्रदीप यादव को शालीनता का पाठ पढ़ाया.
  • मंत्री अमर बाउरी ने कुछ ऐसा कहा कि अध्यक्ष ने उन्हें खड़े होने को कहा और डांट पिलायी.
  • पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सीपी सिंह और वर्तमान विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव नियम-कानून को लेकर आपस में भिड़े.
  • हेमंत सोरेन ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को गुंडागर्दी करनेवाला सीएम कहा.
  • सरकार के विधायक अनंत ओझा ने अपने लिए सरकार से सुरक्षा की गुहार लगायी.
  • और घर की चूल्हा-चौकी छोड़कर पहली बार विधायक बनीं सीमा महतो और बबीता देवी सोचती रहीं कि “अरे भाई ये क्या हो रहा है… ये क्या हो रहा है”.

इसे भी पढ़ें- विस मॉनसून सत्र : अंतिम दिन पारित हुए छह विधेयक

इसे भी पढ़ें- रेंग-रेंगकर चलता ट्रैफिक, गाड़ियों की लंबी कतारें, रांची में घंटों लगा रहता है जाम

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

nilaai_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

bablu_singh

Comments are closed.