न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी सरकार के खिलाफ तीन अगस्त को माओवादियों का झारखंड-बिहार बंद

2,866

Ranchi : भाकपा माओवादी संगठन की बिहार-झारखंड स्पेशल एरिया कमिटी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर केंद्र की मोदी सरकार को ‘चरम फासीवादी’ करार दिया है. साथ ही, मोदी सरकार पर ‘अभूतपूर्व बर्बर राजकीय आतंकवाद’ जारी रखने का आरोप लगाते हुए इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने का एलान किया है. कमिटी के प्रवक्ता आजाद की ओर से जारी इस प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि भाकपा माओवादी संगठन द्वारा 28 जुलाई से तीन अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाया जायेगा. इस दौरान एक और दो अगस्त को मोदी सरकार के खिलाफ व्यापक विरोध प्रदर्शन किया जायेगा, जबकि तीन अगस्त को बिहार-झारखंड बंद रहेगा. मेडिकल सेवा, एम्बुलेंस, दवा दुकान, अग्निशामक दस्ता, दूध वाहन आदि बंद से मुक्त रहेंगे. विज्ञप्ति में लोगों से अपील की गयी है कि वे बंद के दौरान रेल तथा लंबी दूरी की बसयात्रा न करें.

इसे भी पढ़ें- मॉनसून सत्रः जन मुद्दों को छोड़ आपस में भिड़ रहे हैं सत्ता और विपक्ष, कार्यवाही बाधित

देश की संपूर्ण संपदा जनता के हाथ से जबरन छीन रही मोदी सरकार

silk_park

प्रेस विज्ञप्ति में मोदी सरकार पर ब्राह्मणीय हिन्दुत्व वाली फासीवादी सरकार होने का आरोप लगाते हुए कहा गया है कि यह सरकार देश की संपूर्ण प्राकृतिक और सामाजिक संपदा समेत जल जंगल जमीन को देश की जनता के हाथ से बंदूक की ताकत पर जबरन छीनकर साम्राज्यवादियों, दलालों, नौकरशाहों, पूंजीवादियों और कॉरपोरेट घरानों के हाथ में सौंपना चाह रही है. इसके लिए यह सरकार देश में बंदूक के शासन का अभूतपूर्व तांडव कर रही है. माओवादियों के उन्मूलन के नाम पर 2009 से 2017 तक तीन चरणों में चलाये गये ऑपरेशन ग्रीनहंट के बाद 2018 से 2022 तक पांच साल के लिए ऑपरेशन “समाधान” की घोषणा केंद्र द्वारा की जा चुकी है, जो बर्बरता की पराकाष्ठा पार करना है. विज्ञप्ति में कहा गया है कि मोदी सरकार संस्थागत रूप ले चुका ब्राह्मणीय हिन्दुत्व फासीवाद कॉरपोरेट नियंत्रणाधीन प्रचार तंत्र के जरिये अपने तमाम कुकृत्यों, झूठ और षड्यंत्र पर आधारित कथित विकास को देश का विकास और सब का विकास कहकर अपने जनविरोधी कार्य को जायज ठहरा रही है. इसके खिलाफ सभी को एकजुट होकर भाकपा माओवादी की बिहार-झारखंड बंदी को सफल बनाना चाहिए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: