न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह : घूमने गयीं थीं दोनों बेटियां, देर से लौटने पर पिता ने डांटा तो खदान में कूदकर दोनों बहनों ने दे दी जान

176

Giridih :  शनिवार की शाम घर लौटी दो सगी बहनों को पिता ने डांट लगायी थी. इसके बाद दोनों बहने घर से बाहर चली गयी. दूसरे दिन रविवार की सुबह गिरिडीह के बनियाडीह स्थित सीसीएल के बंद पड़े खदान में तैरता हुआ शव मिला. इसके बाद इलाके में कोहराम मच गया. हालांकि यह स्पष्‍ट नहीं हो पाया कि, दोनों बहनें बंद पड़े खदान के पास कब और कैसे पहुंची?.

इसे भी पढ़ें : पिछली बार नरेंद्र मोदी के खिलाफ लड़ा था चुनाव, इस बार रांची लोकसभा से चुनावी मैदान में

डांट के बाद चुपके से दोनों घर से चली गयीं थीं बाहर

जानकारी के अनुसार बबीता और नैना दोनों बहनें घूमने गयी हुईं थीं. इसी दौरान दोनों घर देर से लौटीं, इस पर पिता रामप्रसाद दास ने दोनों बेटियों को जमकर डांटा. पिता की डांट से गुस्साई दोनों बहनें घर छोड़ कर चली गयीं थीं.

वहीं रविवार की सुबह दोनों बहनों का शव खदान के पानी में तैरता हुआ मिला. बड़ी बहन(18 वर्षीय) बबीता कुमारी का शव जहां सुबह करीब 11 बजे मिला. वहीं छोटी बहन नैना का शव उसके दो घंटे बाद मिला.

इसे भी पढ़ें : झरिया विधायक संजीव सिंह के छोटे भाई सिद्धार्थ गौतम धनबाद लोकसभा से निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव

दो-दो घंटे के अंतराल पर मिला दोनों का शव

बबीता के परिजनों को घटना की जानकारी देने के बाद एसडीपीओ जीतवाहन उरांव और प्रशिक्षु आइपीएस नाथुसिंह मीणा घटना सथल पर पहुंचे. इस बीच स्थानीय ग्रामीणों को पुलिस पदाधिकारियों ने पानी से शव निकालने का निर्देश दिया.

काफी प्रयास के बाद बबीता कुमारी का शव पानी से बाहर निकाला गया. इस बीच बबीता के पिता रामप्रसाद ने बताया कि उनकी छोटी बेटी भी लापता है. बबीता के पिता द्वारा जानकारी दिए जाने के बाद एसडीपीओ उरांव के निर्देश पर ग्रामीणों ने नैना को भी खोजना शुरु किया. करीब दो घंटे बाद नैना का शव गहरे पानी में मिला.

इसे भी पढ़ें : गुमला : प्रशिक्षु दरोगा अनिल मुंडा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: