न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टीवीएनएल में गहराया वित्तीय संकट, नवंबर में 55 करोड़ की बिजली ली, दिया सिर्फ सात करोड़

91
  • वितरण निगम के पास बकाया बढ़कर हो गया 3100 करोड़, कोयला खरीदने पर भी आफत
  • अफसरों-कर्मियों को वेतन देने में भी आफत, हर माह वेतन मद में खर्च होता है लगभग छह करोड़
  • वितरण निगम हर दिन टीवीएनएल के ढाई करोड़ की खरीदता है बिजली
  • सीएम ने समीक्षा बैठक में कहा, टीवीएनएल को कोयला खरीदने के लिये दो पैसा
  • सोमवार को दोपहर दो बजे विकास आयुक्त से वितरण निगम के एमडी राहुल पुरवार ने टीवीएनएल मुद्दे पर किया मंथन
mi banner add

Ranchi: राज्य के एकमात्र थर्मल पावर प्लांट टीवीएनएल (तेनुघाट विद्युत निगम लिमिटेड) में वित्तीय संकट गहरा गया है. यह सब बिजली वितरण निगम के बकाये को लेकर हुआ है. वितरण निगम के पास टीवीएनएल का बकाया बढ़कर 3100 करोड़ रुपये हो गया है. नवंबर में वितरण निगम ने टीवीएनएल से 55 करोड़ की बिजली खरीदी, इसके एवज में सिर्फ 7 करोड़ रुपये का ही भुगतान किया. समीक्षा बैठक में सीएम रघुवर दास ने कहा था कि टीवीएनएल को कोयला खरीदने का पैसे मिलते रहना चाहिये. किसी भी हाल में यूनिटें बंद न हो इसे सुनिश्चित करें.

कोयला खरीदने का भी पैसा नहीं

अब टीवीएनएल प्रबंधन के पास कोयला खरीदने के भी पैसे नहीं है. पिछले दो दिनों से कोयले की कमी के कारण टीवीएनएल की दोनों यूनिटें ठप्‍प रहीं. सोमवार को एक यूनिट से उत्पादन शुरू किया गया. दोपहर दो बजे विकास आयुक्त डीके तिवारी और बिजली वितरण निगम के एमडी राहुल पुरवार ने टीवीएनएल मामले पर काफी देर तक मंथन किया. इसके अलावा टीवीएनएल के अफसरों- कर्मियों को भी वेतन देने में आफत हो गई है. हर माह वेतन में लगभग छह करोड़ रुपये खर्च होते हैं.

Related Posts

अंततः कर्नाटक में गिर गयी कुमारस्वामी की सरकार, गुरुवार को शपथ ले सकते हैं येदियुरप्पा

भाजपा को 105 मत मिले और सत्ता पक्ष को 99 वोट, कुल 204 विधायक थे उपस्थित

क्या है टीवीएनएल की फैक्ट फाइल

  • टीवीएनएल की दोनों यूनिटों को चलाने के लिये हर माह 1.5 लाख टन कोयले की है जरूरत
  • एक दिन में 7000 टन होती है कोयले की जरूरत
  • टीवीएनएल हर महीने खरीदता है 32 करोड़ का कोयला
  • एक यूनिट बिजली उत्पादन में 700 से 800 ग्राम कोयले की जरूरत
  • बिजली उत्पादन के लिए जेड-8 और जेड-9 श्रेणी के कोयले का होता है उपयोग
  • एक यूनिट बिजली उत्पादन में 3.50 रुपये प्रति यूनिट आता है खर्च
  • एक माह में 20 करोड़ की बिजली का होता है उत्पादन
  • प्रति माह डीजल में 3.5 करोड़ खर्च
  • मेंटेनेंस में दो से ढ़ाई करोड़ खर्च
  • कर्मचारियों-अधिकारियों के वेतन में हर माह लगभग छह करोड़ खर्च
  • बिजली वितरण निगम हर दिन टीवीएनएल से लगभग ढ़ाई करोड़ की खरीदता है बिजली

इसे भी पढ़ें: सूबे में गहराया बिजली संकट, अब सिकिदिरी हाइडल भी बंद, चार साल में एक मेगावाट भी नहीं बढ़ा उत्पादन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: