Education & CareerKhas-Khabar

दो पालियों में हुई कॉपियों की जांच तो जून के पहले सप्ताह में इंटर-मैट्रिक के रिजल्ट जारी होने की उम्मीद

Ranchi: झारखंड एकेडमिक काउंसिल मैट्रिक-इंटर के रिजल्ट जारी करने को लेकर काफी चिंतित है. लॉकडाउन के बाद कितने दिनों में रिजल्ट जारी किया जा सकता है, इसपर मंथन चल रहा है.

Jharkhand Rai

जैक सेक्रेटरी महीप कुमार सिंह के मुताबिक, बोर्ड इस बात पर तैयारी कर रही हैं कि मैट्रिक-इंटर के विद्यार्थियों को जितना जल्दी हो सके रिजल्ट दे दें. उन्होंने बातचीत के क्रम में बताया कि अगर 3 मई के बाद लॉकडाउन समाप्त होता है तो कॉपियों की जांच शुरू कर देंगे.

इसे भी पढ़ेंःमनी लॉन्ड्रिंग केस में पूर्व मंत्री एनोस एक्का को 7 साल की सजा, दो करोड़ का जुर्माना

सुबह नौ से शाम सात बजे तक होगा मूल्यांकन

जैक रिजल्ट को लेकर काफी गंभीर है. जैक की तैयारियों की बात करें तो 3 मई के बाद स्थिति के सामान्य होते ही कॉपियां दो शिफ्ट में जांची जायेगी. कॉपियां सुबह 9 बजे से शाम के 6 या 7 बजे तक जांची जायेगी. वहीं शिक्षकों की बहानेबाजी नहीं चलेगी.

Samford

शिक्षकों को हर हाल में कॉपियां जांचनी ही होगी. जैक सेक्रेटरी की मानें तो स्थिति सामान्य होने के बाद कॉपियों की जांच शुरू होने से लेकर टेबुलेटिंग तक का काम लगभग 15 दिनों में पूरा कर लिया जायेगा. सब तय कार्यक्रम के अनुसार हुआ तो जून के प्रथम सप्ताह में इंटर और मैट्रिक का रिजल्ट जारी कर दिया जायेगा.

एक शिक्षक दो शिफ्ट में जांचेंगे 60 कॉपी

पूर्व में तय कार्यक्रम के अनुसार, 22 मार्च से कॉपियों की जांच करनी थी. तब एक शिक्षक को औसतन 40 कॉपियां एक दिन में जांचनी थी, पर जो तैयारी जैक कर रहा उसके अनुसार अब एक शिक्षक को कम-से-कम 60 कॉपियां जांचनी होगी.

इसे भी पढ़ेंःCovid-19: इंदौर में 53 की मौत के बाद महामारी संबंधी सर्वेक्षण तेज, राजस्थान में 47 नये केस

ये 60 कॉपियां दो शिफ्ट में जांचनी होगी. वहीं सेंटर्स पर शिक्षकों के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए कई तरह की तैयारियां की जायेगी. मूल्यांकन केंद्र पर परीक्षकों के बैठने की जगह की हर दिन साफ-सफाई की जायेगी. सभी केंद्रों में बिजली की सुविधा के लिए जेनरेटर की सुविधा पहले से की जा चुकी है. इससे देर शाम तक कॉपियां जांचने में परेशानी नहीं होगी.

32 लाख से अधिक कॉपियों का होना है मूल्यांकन

बता दें कि इस वर्ष कॉपियों की जांच शुरू होते ही लॉकडाउन होने की वजह से मूल्यांकन का काम रूक गया. ऐसे में लॉक डाउन के बाद स्थिति सामान्य होने पर शिक्षकों को 32 लाख 50 हजार कॉपियों की जांच करनी है. अच्छी बात यह है कि इस वर्ष जैक ने क्षेत्रीय और जनजातिय भाषा की कॉपियों की जांच परीक्षा खत्म होते ही करा ली थी. ऐसे में थोड़ी राहत जरूर रहेगी.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaWarriors: बगैर सेफ्टी किट के गली और मोहल्लों को सैनिटाइज करने में जुटे हैं सफाई कर्मी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: