JharkhandMain SliderRanchi

झारखंड के 88 एनजीओ के दफ्तरों पर छापा, कई आपत्तिजनक कागजात जब्त

Ranchi: झारखंड के 88 एनजीओं के दफ्तरों पर शुक्रवार दोपहर 11 बजे से एक साथ सीआईडी का छापा पड़ा. इन सभी एनजीओ पर विदेश से चंदा लेने और उनकी जानकारी सरकार से छिपाने का आरोप है. सीआईडी सूत्रों की माने तो इन 88 एनजीओ ने सरकार के बार-बार के अल्टीमेटम के बावजूद विदेशी फंड के स्रोत की जानकारी नहीं दी थी.

इसे भी पढ़ें-मोदी सरकार ने मीडिया पर निगरानी के लिए 200 लोगों की टीम बनाई- पुण्य प्रसून वाजपेयी

14 करोड़ रुपये और कई महत्वपूर्ण कागजात जब्त

Catalyst IAS
ram janam hospital

सीआइडी सूत्रों ने न्यूज विंग को बताया कि दोपहर 3 बजे तक 14 करोड़ रुपये और कई महत्वपूर्ण कागजात जब्त किये गये थे. समाचार लिखे जाने तक सीआइडी की छापेमारी जारी थी.

The Royal’s
Sanjeevani
एनजीओ पर छापेमारी के दौरान CID की टीम
एनजीओ पर छापेमारी के दौरान CID की टीम

विदेशी फंड से जुड़ी जानकारी छिपा रहे थे एनजीओ

झारखंड पुलिस के अपराध जांच विभाग ने 2013 से तीन साल के भीतर में कुल 265 करोड़ रुपये की निधि प्राप्त करने वाले 88 गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) को नोटिस दिया था. एनजीओ से पूछा गया था कि क्या वे प्रासंगिक कानून के तहत पंजीकृत है या नहीं, साथ ही उनके पदाधिकारियों का विवरण, विदेश सहित धन का स्रोत और बीते पांच साल के खर्च व आय का विवरण व अन्य जानकारियां मांगी गई हैं.

इसे भी पढ़ें-शर्मनाक ! बेटी के शव को घंटों कंधे पर लाद PMCH में भटकता रहा लाचार पिता

कौन-कौन से एनजीओ पर पड़ा छापा ?

जिन एनजीओ में सीआइडी की छापेमारी हुई, उनमें बेथल मिशन, ब्रदर्स ऑफ सेंट गैब्रियल एजुकेशन सोसाइटी, कैपुचिन फ्रियर्स माइनर सोसाइटी, कैथोलिक हेल्थ एसोसिएशन, डाउटर्स ऑफ सेंट अनेरंची, डॉन बास्को टेक्निकल स्कूल आदि शामिल थे.

2014 से 2016 के बीच झारखंड से 265 करोड़ रुपये बरामद

विदेश मंत्रालय को सूचना मिली थी कि देश में कुछ एनडीओ विदेशों से फंड प्राप्त कर रहे हैं जो संदिग्ध है. इसके बाद 2014 में राज्य सरकारों को केन्द्र की ओर से निर्देश दिये गये. उधर केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भी FCRA के तहत विदेशी चंदा हासिल करने वाले एनजीओ को विदेशी फंड के स्रोतों पर जानकारी मांगी थी. सूत्रों के मुताबिक, ‘मंत्रालय को विदेश से धन प्राप्त करने वाले इन एनजीओ के खिलाफ एक शिकायत मिली है. इन एनजीओ ने कथित तौर पर वार्षिक आयकर दाखिल नहीं किया और इन्होंने अपने आय व खर्च के स्रोत को छिपाया.’

इसे भी पढ़ें- भाजपा के 12 सांसद स्कूल मर्जर के खिलाफ, सीएम को लिखा पत्र

अगर झारखंड की बात करें तो इन एनजीओ ने 265 करोड़ रुपये की राशि 2013 से 2016 के बीच प्राप्त की है, जिसके बाद विशेष (खुफिया) शाखा ने 2016 में आशंका जाहिर की थी कि विदेशी धन का दुरूपयोग राज्य में धर्म परिवर्तन के लिए किया जा रहा है.
न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button