Fashion/Film/T.VLead NewsOFFBEAT

13 साल की उम्र में सुखविंदर ने मलकीत सिंह के लिए कंपोज किया था तूतक तूतक तूतीया

ऑस्कर व ग्रैमी अवार्ड जीतने वाले बॉलीवुड के एकमात्र गायक सुखविंदर के जन्मदिन पर विशेष

Naveen Sharma

Ranchi :  सुखविंदर सिंह बॉलीवुड के एकमात्र गायक हैं जिनके गाए गीत जय हो  को हॉलीवुड का सबसे बड़ा पुरस्कार ऑस्कर मिला है. इसके साथ ही गुलज़ार के लिखे गए और एआर रहमान की धुन में सजे इस गाने को म्यूजिक के क्षेत्र में दिए जानेवाले प्रतिष्ठित ग्रैमी अवार्ड से भी नवाजा गया था.

मेरा ध्यान सुखविंदर की अनूठी आवाज की तरफ तब गया जब चंकी पांड औऱ माधुरी दीक्षित की फिल्म खिलाफ में उनका गाया गीत आजा सनम मेरी जान चली सुना. यह फिल्म तो बकवास थी पर सुखविंदर की अलहदा किस्म की आवाज ने मुझे उनका मुरीद बना दिया. मुझे लगा रफी, मुकेश व किशोर की बाद वाली पीढ़ी में सुखविंदर के रूप में हमने एक अच्छे गायक को पा लिया है. बाद के दौर में सुखविंदर ने अपने एक से बढ़कर एक लाजवाब गीतों से मेरे अनुमान को सही साबित किया. कुछ साल पहले रांची के होटवार के बिरसा मुंडा स्टेडियम में सुखविंदर को लाइव सुनने का भी मौका मिला था.

इसे भी पढ़ें :बिहार में कोरोना का खतरा बरकरार, सीएम नीतीश ने लोगों से सावधानी बरतने की अपील की

advt

आठ साल की उम्र में ही स्टेज पर परफॉर्म करना शुरू किया

सुखविंदर सिंह का जन्म 18 जुलाई 1971 पंजाब के अमृतसर में हुआ था. उन्होंने महज आठ साल की उम्र में में ही स्टेज पर परफॉर्म करना शुरू कर दिया था. उन्होंने अपनी पहली स्टेज परफॉरमेंस स्वर कोकिला लता मंगेशकर के गाने सारे-गा-पा पर दी थी.

13 साल की उम्र में सुखविंदर सिंह ने सिंगर मलकीत सिंह के लिए तूतक तूतक तूतीया कंपोज किया था. सिंगिंग के अलावा उन्होंने कई  बॉलीवुड मूवी में बतौर म्यूजिक डायरेक्टर काम किया है.

इसे भी पढ़ें :बम की तरह फटा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, महिला की गयी जान, IAS अफसर का भाई गंभीर

फ़िल्मी करियर

सुखविंदर सिंह को उनका पहला फ़िल्मी करियर ब्रेक फिल्म कर्मा से मिला इस फिल्म में उन्होंने सिर्फ चंद लाइनें ही बोली थी. उन्हें अपनी आवाज में वो खनक नहीं मिली जो वो चाहते थे. इसके बाद उन्होंने इंग्लैंड का टूर किया और संगीत के कई फॉर्म्स को जाना. इसके बाद उन्होंने मुंबई वापस आकर फिर काम करना शुरू कर दिया. उसके बाद उन्होंने माधुरी दीक्षित की फिल्म खिलाफ के गाने ‘आजा सनम मेरी जान चली ‘के लिए अपनी आवाज दी. यह गाना सुपरहिट साबित हुआ. इसके बाद तो सुखविंदर नें हिंदी सिनेमा में बैक-टू-बैक हिट गीतों की लाइन लगा दी.

सुखविंदर सिंह ने साल 2010 में “कुछ करिए” नाम की फिल्म से एक्टिंग में भी हाथ आजमाया था. इनका गैर फिल्मी गीतों का एल्बम नशा ही नशा भी हिट हुआ था.

इसे भी पढ़ें :Bihar News: कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा समेत 154 लोगों पर FIR दर्ज

सुखविंदर और एआर रहमान की जोड़ी

सुखविंदर और ए-आर रहमान की जोड़ी ने हिंदी सिनेमा में कई हिट गानें दिए. जिनमें फिल्म दिल से का छैंया-छैंया, रमता जोगी, नई मैं समझ गयी, ताल से ताल मिला, रुत आ गयी रे, ये जो जिंदगी है, जाने तू मेरा क्या है, पिया हो. सबसे ज्यादा प्रसिद्धि पाने वाला गाना फिल्म स्लमडॉग मिलेनियर का जय हो भी शामिल है. हिंदी गाने के अलावा इस जोड़ी ने कई हिट तमिल सांग्स भी दिए हैं.

इसे भी पढ़ें :सुहाग रात पर रिश्तेदारों से खूब परेशान हुए Rahul Vaidya, रात के 3 बजे मामा ने… देखें VIDEO

छैंया-छैंया के लिए पहला फिल्मफेयर अवार्ड मिला

सुखविंदर सिंह को पहला फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ मेल प्लेबैक सिंगर का पुरुस्कार फिल्म दिल से के गाने छैंया-छैंया के लिए मिला था. इस फिल्म का संगीत ए-आर रहमान ने दिया था. इसके अलावा उन्हें फिल्म रब ने बना दी जोड़ी के गाने हौले-हौले से हवा चलती के लिए फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ मेल प्लेबैक सिंगर का पुरुस्कार मिल चुका है.

सुखविंदर सिंह को साल 2014 में विशाल भरद्वाज निर्देशित फिल्म हैदर के लिए राष्ट्रीय पुरुस्कार से भी नवाजा जा चुका हैं.

इसे भी पढ़ें :ब्रिटेन में कोरोना फिर उफान पर, वैक्सीन की दोनों डोज लेनेवाले हेल्थ मिनिस्टर पॉजिटिव

 

प्रसिद्ध गाने

1रमता जोगी

2नई मैं समझ गयी

3ताल से ताल मिला

4रुत आ गयी रे

5 तुझ मैं रब दिखता है

6 हौले-हौले से हवा चलती है

7 आज मेरा जी करदा

8 लग्न लगी

9 माहि वे

10 साकी-साकी

11 बीड़ी जलाई ले

12 हूड़ हूड़ दबंग

इसे भी पढ़ें :बिजली संकट पर अपनी ही सरकार के खिलाफ अनशन करेंगे विधायक सुखराम उरांव

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: