JharkhandRanchi

राजधानी के 70 फीसदी बहुमंजिली इमारतों में नहीं है फायर फाइटिंग की बेहतर सुविधा

Ranchi : राजधानी रांची के 70 फीसदी बहुमंजिली इमारतों में फायर फाइटिंग की बेहतर सुविधाएं नहीं हैं. नगर विकास विभाग के बिल्डिंग बाईलॉज में यह स्पष्ट है कि जिस भवन की ऊंचाई 15 मीटर अथवा अधिक है या जिस इमारत के ग्राउंड फ्लोर की लंबाई, चौड़ाई 500 वर्ग मीटर से अधिक है, वहां फायर फाइटिंग की बेहतर और वैकल्पिक सुविधाएं देना जरूरी है.

पर बिल्डिंग बाइलॉज के इस नियम का राजधानी में अनुपालन नहीं हो रहा है. अपर बाजार की संकरी गलियां, दिनबंधू लेन, वार्ड नंबर 20 का इलाका, रातू रोड का कृष्णा नगर कालोनी, हिनू, हटिया, तुपुदाना और आसपास के क्षेत्र में धड़ल्ले से बहुमंजिली इमारतों का जिर्णोद्धार तथा निर्माण हो रहा है.

इनमें से अधिकतर जगहों पर फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी आसानी से आ-जा नहीं सकती हैं. नगर निगम के आंकड़ों के अनुसार राजधानी में 150 से अधिक बड़े भवनों में अगलगी की घटना से बचने के लिए वैकल्पिक सीढ़ी की व्यवस्था नहीं है. इतना ही नहीं इनमें फायर फाइटिंग से बचने के लिए अलार्म और पानी के पाइपलाइन भी नहीं हैं. इन भवनों के निर्माताओं की तरफ से अग्निशमन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र भी नहीं लिया गया है.

advt

इसे भी पढ़ेंःहोने लगी एनडीए में पीएम बदलने की मांग, जदयू नेता ने कहा- नीतीश बनें प्रधानमंत्री

दिनबंधू लेन अपर बाजार में बन रही हैं कई इमारतें

अपर बाजार के दिनबंधू लेन में बन रही कई इमारतों में बेसमेंट परिसर को दुकान बना दिये जाने की सूचना है. इनमें पार्किंग की जगह पर दुकान बना दी गयी है तथा ऊपरी तल में चढ़ने के लिए सिर्फ एक सीढ़ी ही इस्तेमाल की जाती है.

यहां की संकरी गलियों का एक बड़ा हिस्सा मोटरसाइकिल पार्किंग से भरा रहता है. कमोबेश यही स्थिति रातू रोड के कृष्णानगर कालोनी, अपर बाजार के जेएन जिंस रोड, एमआर मार्केट रोड, कांग्रेस भवन रोड वाले इलाके का भी है.

यहां पर राजधानी की कपड़े, किराना और दवाईयों की थोक दुकानें हैं. नगर निगम के अधिकारियों का कहना है कि बिल्डिंग बाईलाज में डेवीएशन कर तय नक्शे के विपरित भवन बनाये जाने से इस तरह की घटनाएं हो रही हैं. पर शिकायत नहीं होने की वजह से कार्रवाई भी नहीं होती है. अवैध निर्माण की जांच भी समय पर नहीं होने से दिक्कतें हो रही हैं.

adv

इसे भी पढ़ेंः15 अगस्त तक टली अयोध्या मामले की सुनवाई, मध्यस्थता के लिए SC ने दिया और तीन महीने का वक्त

आये दिन हो रही हैं अगलगी की घटनाएं

गर्मी की वजह से आये दिन अगलगी की कई घटनाएं रांची में हो रही हैं. नौ मई (गुरुवार) को हिनू के आनंद प्लाजा में अगलगी की घटना घटने से 35 लोग फंस गये थे. इस भवन के पहले तीन तल्ले में मार्केटिंग कांपलेक्स है, जबकि तीन और तल्ले में अपार्टमेंट बने हैं.

इस भवन में एक मात्र सीढ़ी है, जिसका उपयोग किया जाता है. फायर फाइटिंग की सुविधा नहीं रहने से कल बहुत मुश्किल से फंसे लोगों को बाहर बांस की सिढ़ियों से निकाला गया था, क्योंकि सीढ़ी में धुंआ भर गया था. कल ही कांटाटोली में भी अगलगी की घटना रसोई गैस सिलिंडर के फंटने से हुई थी, जिसमें जानमाल की क्षति की कोई सूचना नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःकनाडाई अक्षय कुमार के INS सुमित्रा पर सवार होने को लेकर कांग्रेस ने मोदी को घेरा

क्या कहते हैं अधिकारी

नगर विकास विभाग के मुख्य टाउन प्लानर गजानंद राम का कहना है कि अगलगी की घटनाएं शहर में कम हो, इसको लेकर नया बिल्डिंग बाईलाज बनाया गया है. इसका शत प्रतिशत अनुपालन नहीं हो रहा है. नतीजतन अवैध निर्माण की संख्या बढ़ रही है. इसकी सूचना नहीं मिलने से आधिकारिक तौर पर कार्रवाई करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button