न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CAA विरोध पर बोले योगी- पुरुष घर पर रजाई में सो रहे, महिलाएं चौराहे पर

680

Kanpur: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ महिलाओं के प्रदर्शन पर उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने तीखा हमला बोला है. बुधवार को योगी ने कहा कि कुछ लोगों में इतनी हिम्मत नहीं कि वे खुद आंदोलन करें, इसलिए घर की महिलाओं और बच्चों को चौराहों पर बैठा दिया हैत. पुरुष घर में रजाई में सो रहे हैं और महिलाएं चौराहे पर हैं.

कानपुर के साकेतनगर स्थित मैदान में बुधवार को सीएए के समर्थन में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए योगी ने कहा कि प्रदर्शन के नाम पर हिंसा को बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें- 24 जनवरी को हो सकता है हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार!

योगी ने विपक्षी दलों पर भी लगाया आरोप

उन्होंने कहा कि और अब तो इन लोगों में इतनी भी हिम्मत नहीं रही कि यह लोग खुद आंदोलन करने की स्थिति में हो क्योंकि इन्हें मालूम है कि अगर यह तोड़फोड़ करेंगे तो इनकी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी.

अपने घर की महिलाओं को चौराहे-चौराहे पर बिठाना शुरू कर दिया है, बच्चों को बिठाना शुरू कर दिया है. इतना बड़ा अपराध कि पुरूष घर में सो रहा है रजाई ओढ़कर और महिलाओं को आगे करके चौराहे-चौराहे पर बिठाया जा रहा है. 

उन्होंने कांग्रेस, सपा और वामपंथी दलों पर आरोप लगाया कि विपक्षी दल महज राजनीति कर रहे हैं और विरोध के लिए अलग-अलग हथकंडे अपनाये जा रहे हैं. विरोध के नाम पर महिलाओं को आगे किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि आप जाके पूछे उनसे किसी से भी कि धरने पर क्यों बैठे है तो कहते हैं कि घर के मर्द कहते है कि हम इतने अक्षम हो चुके हैं कि कुछ कर सकें इसलिये तुम धरने पर जाकर बैठ जाओ. इनके लिये देश महत्वपूर्ण नहीं है.

इसे भी पढ़ें- सीएए, एनपीआर और एनआरसी इस तरह प्रभावित कर रहे हैं भारत की अर्थव्यवस्था को

भारत की धरती पर रहकर इसके खिलाफ षड्यंत्र करने की छूट नहीं: योगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं फिर कहूंगा कि लोकतंत्र में धरना प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से ज्ञापन देना सब का अधिकार है. लेकिन, कोई सार्वजनिक संपत्ति को, व्यापारिक प्रतिष्ठानों को जलायेगा, तोड़फोड़ करेगा तो हम उसकी संपत्ति से वसूली करके ले लेंगे और आगे के लिए हम उनको वह सजा देंगे कि आने वाली पीढ़ी उन्हें याद करेगी कि कैसे कार्य होते हैं. सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की कीमत क्या होती है इसके बारे में उनको 10 बार सोचना पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि भारत की धरती पर खास करके उत्तर प्रदेश की धरती पर मैं यह कहूंगा की धरना प्रदर्शन के नाम पर कश्मीर में जो नारे कभी आजादी के लगते थे अगर इस प्रकार के नारे लगाने का कार्य करोगे तो देशद्रोह की श्रेणी में आयेगा.

फिर इस पर कठोर कार्रवाई करने का कार्य सरकार करेगी. यह स्वीकार नहीं हो सकता है कि भारत की धरती पर रह कर भारत के खिलाफ षड्यंत्र करने की छूट हो. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like