न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेपीएससी परीक्षा का उद्देश्य सत्ताधारियों के रिश्तेदारों को बैकडोर से अधिकारी बनाना है : रोशन लाल

890

Ranchi : जेपीएससी के नाम पर सरकार विद्यार्थियों के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है. सिर्फ विद्यार्थी ही नहीं, आनेवाले अधिकारी भी ऐसी परीक्षाओं से भ्रष्ट ही निकलेंगे. सरकार ने ऐसी जिम्मेदार परीक्षाओं को भी अपने काले कारनामे से नहीं छोड़ा. उक्त बातें एनएसयूआइ के प्रदेश प्रभारी रोशन लाल बिट्टू ने कहा. वह गुरुवार को प्रेसवार्ता को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि राज्य में प्रतियोगिता परीक्षाएं ऐसे ही सुर्खियों में रहती हैं. लेकिन, इस सरकार ने हद कर दी. ऐसा लग रहा है कि राज्य में परीक्षा लेने का मुख्य उद्देश्य सत्ता में बैठे लोगों के रिश्तेदारों को बैकडोर से अधिकारी बनाना है. सरकार को यह सोचना चाहिए कि छात्र कितनी मेहतन करते हैं. एक-एक परीक्षा विद्यार्थियों के लिए कितनी महत्वपूर्ण होती है. ऐसे में सरकार को चाहिए कि छात्र हित में निर्णय ले.

मामले की हो सीबीआई जांच

इस दौरान एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने मांग करते हुए कहा कि इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए, ताकि दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो सके. रोशन ने कहा कि अगर सरकार इस पर जल्द से जल्द निर्णय नहीं लेती है, तो एनएसयूआई सड़क पर उतरकर विरोध करेगा, जो चरणबद्ध आंदोलन होगा.

hosp3

हर स्तर पर हुई अनियमितता

झारखंड प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता कुमार राजा ने कहा कि जेपीएससी परीक्षा में हर स्तर पर अनियमितता है. सरकार का हाल इसी से पता चलता है कि दो साल पुराने प्रश्नपत्र परीक्षार्थियों को दिये गये. ऐसे में बड़ा सवाल है कि क्या इन दो सालों तक प्रश्नपत्र लीक नहीं हुआ होगा. क्या इसकी गारंटी सरकार ले सकती है? ऐसी चूक गलती से नहीं, बल्कि सोच-समझकर की गयी है. उन्होंने कहा कि राज्य के विद्यार्थियों में आक्रोश है, लेकिन सरकार पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता. इससे सरकार की मंशा साफ होती है.

ये थे उपस्थित

मौके पर विक्की कुमार, इंद्रजीत सिंह, सारिक अहमद, प्रदेश सचिव रोहित पांडेय समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- विकास योजना का हाल : गरीब विधवा मुन्नी देवी और उनके बच्चों को एक साल से नसीब नहीं हुई है दाल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: