JharkhandLead NewsNEWSRanchi

कोवैक्सीन की दूसरी डोज को प्राथमिकता, अगले महीने से फर्स्ट डोज

Ranchi: कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीन को सबसे अहम माना जा रहा है यही वजह है कि वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों को प्रेरित किया जा रहा है. इसके अलावा जिन्हें पहली डोज लग चुकी हैं, उन्हें प्राथमिकता देते हुए दूसरी डोज लगाई जा रही है लेकिन वैक्सीन की कमी की वजह से लोग निर्धारित तिथि पर वैक्सीन नहीं लगवा पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : सुरक्षा को छोड़ वसूली में लगे हैं पीसीआर, 14 पुलिसकर्मी हो चुके हैं सस्पेंड

 

राज्य में कोवैक्सीन की कमी

 

राजधानी समेत पूरे झारखंड में वैक्सीन की सप्लाई की गई है. इसके बाद भी लोगों को कोवैक्सीन नहीं मिल पा रही है. ऐसे में कोवैक्सीन की फर्स्ट डोज लेने के लिए फिलहाल लोगों को इंतजार करना होगा. चूंकि कोवैक्सीन की सेकेंड डोज लेने वालों को प्रायोरिटी दी जा रही है. यही वजह है कि सेकेंड डोज लेने वालों के लिए स्लॉट बुक कराना अनिवार्य कर दिया गया है. जिससे कि सेकेंड डोज वालों को पहले टीका लगाया जा सके. बताते चलें कि कोवैक्सीन की पूरे राज्य में 20 हजार से कम डोज उपलब्ध है.

 

एक हफ्ते में कोवैक्सीन की 2,16,140 डोज

 

इस महीने झारखंड को 33 लाख कोविड वैक्सीन की डोज सप्लाई की जानी है. जिसमें से अलग-अलग स्लॉट में वैक्सीन भेजी गई है. अब वैक्सीन की अगली खेप 29 जुलाई को आएगी. जिसमें कोविशील्ड की 451970 डोज और कोवैक्सीन की 68400 डोज आएगी. इसके बाद 4 अगस्त कोवैक्सीन 147740 डोज की दूसरी खेप भेजी जाएगी. ऐसे में एक हफ्ते में कोवैक्सीन की 2,16,140 डोज राज्य को मिलेंगे. जिससे कि फर्स्ट डोज लेने वालों को राहत मिलेगी.

 

ढाई करोड़ आबादी को लगाया जाना है टीका

 

झारखंड की आबादी लगभग साढ़े तीन करोड़ है. जिसमें 18-44 साल वाले 1.57 करोड़ को टीका लगाया जाना है. वहीं 45 प्लस वाले लगभग 90 लाख लोग हैं. ऐसे में 2.47 करोड़ को कोविड वैक्सीन लागाया जाना है. लेकिन 24 जुलाई तक 87 लाख लोगों को ही टीका लगाया जा सका है. जबकि एक बड़ी आबादी अब भी वैक्सीनेशन से दूर है. जिससे समझा जा सकता है कि वैक्सीनेशन को तेज नहीं किया गया तो एक साल से अधिक समय लोगों को कवर करने में लग जाएगा.

Related Articles

Back to top button