न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रूसा ने किया नियमों में बदलाव, अब सीएलएफ पोर्टल माध्यम से मिलेगा संस्थानों को अनुदान

59

Ranchi: राष्ट्रीय उच्चत्तर शिक्षा अभियान (रूसा) ने उच्चत्तर शैक्षिणक संस्थानों के अनुदान देने की प्रक्रिया में बदलाव किया है. अब कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों को अनुदान सीएलएफ पोर्टल के माध्यम से प्रदान किया जायेगा. वहीं कॉलेज एवं विश्वविद्यालय का नैक मूल्यांकन रूसा के नये सॉफ्टवेयर रूसा 2.0 के माध्यम से किया जायेगा. दरसल पूर्व में कोई भी संस्थान नैक ग्रेडिंग मिलने के बाद रूसा के तहत अनुदान के आवेदन करते थे. इन संस्थानों में रूसा के अनुदान का सही से इतेमाल नहीं किया जाता था. इस वजह से अनुदान की प्रक्रिया में रूसा ने बदलाव किया है.

क्या है सीएलएफ पोर्टल

चेसपिक लाइटहाउस फाउंडेशन (सीएलएफ) संस्थान रूसा को संस्थानों को अनुदान प्रदान करने में मदद करेगी. सीएलएफ पोर्टल के माध्यम से पूरे देश के उच्चत्तर शैक्षिणक संस्थान (विश्वविद्यालय और कॉलेज) अपने नैक की ग्रेडिंग के साथ अनुदान हेतु संबंधित पेपर पोर्टल पर अपलोड करेंगे. संस्थानों की रैंकिंग के हिसाब से पोर्टल उनका मूल्यांकन करेगी. इसके बाद ये संस्थान रूसा का अनुदान के योग्य माने जायेंगे.

रूसा ने  2.0 सॉफ्टवेयर बनाया

झारखंड में सभी उच्चत्तर शैक्षिणिक संस्थानों को अनिवार्य रूप से नैक ग्रेडिंग करानी है. इस दिशा में सरकार पहल कर रही है. सभी संस्थानों की ग्रेडिंग के बाद किन-किन संस्थानों को रूसा का अनुदान मिलेगा, इसे तय करने के लिए रूसा ने सॉफ्टवेयर रूसा 2.0 कर इजाद किया है. इसके माध्यम से रूसा के अनुदान के नये मापदंड की जानकरी दी गयी है. रूसा के नये मापदंड के अनुसार अब नैक ग्रेडिंग प्राप्त प्लस ए से लेकर बी तक को अनुदान दिया जायेगा. नैक सी ग्रेडिंग प्राप्त संस्थानों को अब रूसा का अनुदान नहीं मिल पायेगा. वहीं साफ्टवेयर के माध्यम से रूसा के नौ चरणों में अनुदान प्रक्रिया का डेटा डाला है.

झारखंड के सभी कॉलेजों को विकास के लिए अब मिलेगा अनुदान

झारखंड राज्य के रूसा के नोडल पदाधिकारी डॉ एसडी सिंह ने कहा राज्य के सभी कॉलेज के विकास में रूसा मदद करेगी. इन संस्थानों को सही रूप से अनुदान मिले इसके लिए रूसा ने सीएलएफ पोर्टल पर कार्य करना आरंभ कर दिया है. रूसा उन्हीं संस्थानों को अब अनुदान देगी, जहां छात्रों की संख्या अधिक होने के साथ उनकी नैक ग्रेडिंग बहेतर हो.

इसे भी पढ़ेंः जमीन कारोबारी की हत्या करने आये छह आरोपी गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: