JharkhandRanchi

वर्तमान समय से परीक्षा लेने से अधिक जरूरी है केंद्र सरकार युवाओं को रोजगार दे: NSUI

विज्ञापन

Ranchi. बीएड और नीट जैसी परीक्षाएं कोरोना महामारी के दौरान लेना जरूरी नहीं है. सरकार को अगर कुछ जरूरी लगता है तो युवाओं को रोजगार दे. उन्हें रोजगार से वंचित न रखे. मोदी सरकार छात्र विरोधी है. ये उक्त बातें एनएसयूआइ के प्रदेश उपाध्यक्ष ओम प्रकाश मिश्रा ने कही.

ये भी पढ़ें- Kerala Plane Crash: कोरोना पॉजिटिव निकला मृत यात्री, घायलों से नहीं मिल सकेंगे परिजन

दरअसल, एनएसयूआई की ओर से शनिवार को शांतिपूर्ण सत्याग्रह किया गया. सत्याग्रह मोरहाबादी स्थित बापू वाटिका के समक्ष किया गया. जिसमें सेमेस्टर का फीस माफ करने और परीक्षाएं रद्द करने की मांग की गई.

advt

ये भी पढ़ें- Giridih: 41 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव, 3 दिनों के लिए पुलिस लाइन बंद

ओम प्रकाश ने कहा कि एक तो छात्रों की पढ़ाई सही से हो नहीं रही, ऊपर से यूनिवर्सिटीज की ओर से परीक्षा लेने की तैयारी की जा रही है. ऐसे में जो भी परीक्षा लेने की तारीख तय की गयी है उसे रद्द किया जायें. या तो कोरोना महामारी के बाद परीक्षा लेने की तारीख तय की जाए या परीक्षा रद्द करें. उन्होंने कहा कि सरकार अगर अपनी नीतियों में बदलाव नहीं करती है तो इसका खामियाजा छात्रों को भुगतना होगा.

अवैध वसूली करना चाहती है सरकार

प्रदेश सचिव अमरजीत कुमार ने कहा कि कोरोना महामारी के समय पूरा विश्व मंदी से गुजर रहा है. वहीं केंद्र सरकार को परीक्षा की पड़ी है. ऐसा कर सरकार छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है. छात्रों से परीक्षा शुल्क के नाम पर अवैध वसूली करना चाहती है सरकार.

adv

अमरजीत ने कहा कि आने वाले समय में एनए सयूआई की ओर से चरणबद्ध तरीके से आंदोलन किया जायेगा. जब तक छात्र हित में निर्णय नहीं लिये जाते, तब तक आंदोलन चलता रहेगा. इस दौरान गौरव आनंद, तिलक सिंह, छोटू, विष्णु सिंह, मौशिन, आकाश, इरफान, पुनीत, गौरव छात्र मौजूद रहे.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button