न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जंतर मंतर के पास कथित तौर पर धर्म पूछकर डॉक्टर से जय श्री राम के नारे लगवाये गये

2,238

NEW DELHI: प्रतिष्ठित स्त्री रोग विशेषज्ञ और लेखक डॉ. अरुण गद्रे को दिल्ली के कनॉट प्लेस में कथित तौर पर कुछ युवाओं ने घेरकर उनसे उनका धर्म पूछा और फिर जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए मजबूर किया.

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, पुणे के रहने वाले डॉ. गद्रे ने इस घटना के संबंध में अभी पुलिस में मामला दर्ज नहीं कराया है. डॉ. अरुण के एक करीबी मित्र ने बताया कि यह घटना 26 मई के सुबह की है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंः झारखंड पर 85234 करोड़ कर्जः 14 साल की सरकारों ने लिये 37593.36 करोड़, रघुवर सरकार ने 5 साल में ही ले लिया 47640.14 करोड़ का ऋण


डॉ. अरुण गद्रे ने यह पूरी घटना प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार अनंत बागाइतकर को बतायी. अनंत बगाइतकर ने कहा, ‘वह (डॉ. गद्रे) जंतर मंतर के पास वाईएमसी में रह रहे थे, उन्हें अगले दिन बिजनौर में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाषण देना था. जब वह सुबह की सैर पर निकले तो कनॉट प्लेस के हनुमान मंदिर के पास पांच से छह युवाओं ने उन्हें घेर लिया और उनसे उनका धर्म पूछा और जय श्रीराम के नारे लगाने को कहा.

इसे भी पढ़ेंः यूपीः बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से 10 लोगों की मौत, कई घरों में पसरा मातम

बागाइतकर ने कहा कि डॉ. गद्रे इस पूरी घटना से हैरान और डरे हुए थे. हालांकि, उन्होंने सोमवार को पुणे पहुंचने के बाद इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे छोटी-मोटी घटना करार दिया.

Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

उन्होंने इस पूरी घटना पर कहा, ‘मैं 26 मई को दिल्ली में वाईएमसी के पास सुबह लगभग छह बजे सैर पर निकला था. कुछ युवाओं ने मुझे रोका और जय श्रीराम के नारे लगाने को कहा. मैं थोड़ा हैरान था लेकिन मैंने नारा लगा दिया. इस पर उन्होंने कहा कि जोर से नारे लगाऊं.’

प्रसिद्ध डॉक्टर प्रकाश आम्टे के साथ काम कर चुके डॉ. गद्रे ने मरीजों के अधिकारों, सार्वभौमिक स्वास्थ्य और निजी चिकित्सा क्षेत्र के सामाजिक नियमन के बढ़ावा देने की दिशा में काम किया है.

(इनपुट द वायर से साभार)

इसे भी पढ़ेंः बहुचर्चित अलकतरा घोटाले में दोषी ठहराये गये तीनों इंजीनियरों को तीन साल की सजा

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like