न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गांधी जयंतीः पीएम मोदी, सोनिया व राहुल समेत कई नेताओं ने राजघाट पर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि

109

New Delhi: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है. इधर पीएम मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सप्रंग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महात्मा गांधी की 149वीं जयंती पर राजघाट जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. प्रधानमंत्री ने इसके अलावा विजय घाट भी पहुंचकर पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

स्वच्छता ही सेवा कैंपेन का समापन

पूरा देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी जयंती पर नमन कर रहा है. इस मौके पर देश के हिस्सों में कार्यक्रम होंगे. वही सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी भी इस बार गांधी जयंती पर बड़ा आयोजन कर रही है. ज्ञात हो कि 15 दिन पहले शुरू किया गया BJP का ‘स्वच्छता ही सेवा’ कैंपेन मंगलवार यानी दो अक्टूबर को खत्म होगा.

इसे भी पढ़ेंःRPCL ने ठोका 80 करोड़ का दावा, सुप्रीम कोर्ट ने माना कंपनी की थी निगम के साथ मिलीभगत

वही गांधी जयंती के अवसर पर राष्ट्रपति भवन में स्वच्छता सर्वेक्षण पुरस्कार भी दिया जाएगा. जिसके बाद शाम को गांधी स्मृति पर प्रार्थना का आयोजन किया जाएगा.

कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

कांग्रेस अध्यक्ष उन वरिष्ठ नेताओं में शामिल रहे जिन्होंने सुबह महात्मा गांधी के स्मारक पर राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि अर्पित की. राजघाट पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद राहुल और सोनिया दोनों तत्काल वहां से चले गये क्योंकि उन्हें महाराष्ट्र के वर्धा में आयोजित कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए जाना है.

इसे भी पढ़ें : 162 IAS में सिर्फ 17 IAS के पास ही राज्य सरकार के सभी काम वाले विभाग, शेष मेन स्ट्रीम से बाहर

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया राहुल के बाद राजघाट पहुंचे और महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की. इसके बाद, सोनिया गांधी वहां पहुंचीं और महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित की. इस दौरान वहां भजन हो रहा था.

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने भी इस अवसर पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: