न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केरल : #RSS का प्रभाव रोकने की कवायद, भाकपा की वेद और मार्क्सवाद पर संगोष्ठी 25 अक्टूबर से

तीन दिवसीय संगोष्ठी का नाम भारतीयम-2019 रखा गया है, जो 25 अक्टूबर से कन्नूर जिले में आयोजित होगी. भाकपा सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय महासचिव डी राजा संगोष्ठी का उद्घाटन करेंगे.

46

Thiruvananthapuram: मार्क्सवाद और वेद प्रायः एक दूसरे के विरोधी माने जाते हैं, लेकिन केरल में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) इस खाई को पाटने के प्रयास में मार्क्सवाद के साथ संयुक्त रूप से वेद, उपनिषद और पुराण पर संगोष्ठी करवायेगी. कन्नूर स्थित एन ई बलराम स्मृति न्यास के तत्वावधान में वेद, उपनिषद, संस्कृति, कला और साहित्य पर एक संगोष्ठी आयोजित का आयोजन किया जायेगा, जहां प्रबुद्धजन विभिन्न विषयों पर अपने विचार प्रकट करेंगे.

इस तीन दिवसीय संगोष्ठी का नाम भारतीयम-2019 रखा गया है, जो 25 अक्टूबर से कन्नूर जिले में आयोजित होगी. भाकपा सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय महासचिव डी राजा संगोष्ठी का उद्घाटन करेंगे. समापन समारोह में मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के शामिल होने की संभावना है. इस कदम को दक्षिण भारतीय प्रदेश केरल में संघ परिवार के बढ़ते प्रभाव को रोकने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें : #MobLynching : 49 नामचीन लोगों पर देशद्रोह का केस दर्ज होने के विरोध में अब 180 हस्तियों ने लिखा पत्र   

 माकपा ने  कन्नूर में श्रीकृष्ण जयंती पर बालगोकुलम की शोभा यात्रा निकाली थी

हाल ही में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने भी कन्नूर में श्रीकृष्ण जयंती पर बालगोकुलम की शोभा यात्रा निकालकर ऐसा ही आयोजन किया था. भाकपा के वरिष्ठ नेता सी एन चंद्रन ने कहा है कि पार्टी कार्यकर्ता इस आयोजन में भाग नहीं लेंगे. चंद्रन ने कहा कि कोई भी इच्छुक व्यक्ति इस संगोष्ठी में भाग ले सकता है. न्यास के अध्यक्ष चंद्रन ने कहा, हम इस तरह की संगोष्ठियां आयोजित करते थे. वेद और उपनिषदों के विभिन्नों पहलुओं पर नौ शोध पत्र प्रस्तुत किये जायेंगे.

Related Posts

#Delhi_CM केजरीवाल ने अमित शाह से हुई मुलाकात को सार्थक बताया, ट्वीट कर दी जानकारी

शपथ ग्रहण समारोह के दौरान केजरीवाल ने दिल्ली के विकास के लिए केंद्र की तरफ भी सहयोग का हाथ बढ़ाते हुए कहा था कि मैंने आज के समारोह के लिए प्रधानमंत्री को भी आमंत्रित किया था, लेकिन वह व्यस्त होने की वजह से नहीं आ सके.

पीटीआई से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वेद और ईसाइयत तथा वेद, बौद्ध धर्म और सूफी जैसे विषयों पर अलग से शोध पत्र प्रस्तुत किये जायेंगे. चंद्रन ने कहा कि संगोष्ठी में इस विषय पर चर्चा होगी कि वामपंथी विचारधारा का वेद और उपनिषद के प्रति क्या रवैया रहा है और पार्टी के विचारकों का इसके प्रति क्या नजरिया रहा.

इसे भी पढ़ें : #SalmanKhurshid ने कहा, देश का मिजाज बदल चुका है, इसे समझ कर ही संकट से उबर सकती है कांग्रेस

संघ परिवार वेद और उपनिषद पर एकाधिकार मानता है

उन्होंने कहा कि वेद और उपनिषद वैज्ञानिक विचारधारा का प्रतिनिधित्व करते हैं लेकिन संघ परिवार के लोग इन विषयों पर अपना एकाधिकार मानते हैं और आज के दौर में उनकी गलत व्याख्या करते हैं. चंद्रन के अनुसार भाकपा इस संगोष्ठी के माध्यम से वेदों की सही और वैज्ञानिक व्याख्या प्रस्तुत करने का प्रयत्न करेगी.

इसे भी पढ़ें : #DA : कैबिनेट ने केंद्रीय कर्मचारियों के लिए 5 प्रतिशत अतिरिक्‍त महंगाई भत्‍ता को मंजूरी दी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like