National

भारतीय सेना को मिलेंगी अब 72 हजार असॉल्ट अमेरिकी राइफलें, इंसास की जगह लेंगी

विज्ञापन

New Delhi: भारतीय सेना अमेरिका से 72 हजार एसआइजी 716 असॉल्ट राइफलें खरीदने जा रही है. नये हथियारों की खरीद फास्ट-ट्रैक पर्चेज  के तहत की जा रही है.

यह राइफलों का दूसरा बैच होगा. अमेरिका से पहले ही 72 हजार राइफलें सेना की नॉर्दन कमांड और दूसरे ऑपरेशन इलाकों में तैनात सैनिकों को मिल चुकी हैं.

advt

अमेरिका की हथियार निर्माता कंपनी सिग सॉयर राइफलों की आपूर्ति करेगी. ये नयी राइफलें मौजूदा समय में भारतीय सेनाओं में इस्तेमाल की जा रही इंडियन स्मॉल आर्म्स सिस्टम (इंसास) 5.56×45 मिमी राइफल की जगह लेंगी.

इसे भी पढ़ें – राजस्थान के सियासी ड्रामे में कूदे सिंधिया, कहा- दोस्त पायलट को सता रहे सीएम गहलोत

डेढ़ लाख राइफलों का आयात

आतंकवाद विरोधी अधियान और एलओसी पर तैनात जवानों के लिए 1.5 लाख राइफलें आयात की जाने वाली हैं. बाकी जवानों को एके-203 राइफलें दी जायेंगी. इनको भारत और रूस मिलकर अमेठी की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में बनायेंगे. इस प्रोजेक्ट पर काम जारी है.

adv

एसआइजी 716 असॉल्ट राइफल क्लोज और लॉन्ग काम्बैट की लेटेस्ट टेक्निक से लैस हैं. सेना अभी जो इंसास राइफलें इस्तेमाल कर रही है, उसमें मैग्जीन टूटने की कई शिकायतें आयी हैं. नयी राइफलों में ऐसी समस्या नहीं है.

इंसास राइफलों से 5.56×45 मिमी कारतूस ही दागे जा सकते हैं, जबकि एसआइजी 716 राइफल में अधिक ताकतवर 7.62×51 मिमी कारतूस का इस्तेमाल होता है.

रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में इजराइल से 16 हजार लाइट मशीन गन (एलएमजी) खरीदने का ऑर्डर दिया है. इंडियन आर्मी अपनी स्टैंडर्ड इंसास असॉल्ट राइफलों को कई सालों से बदलना चाह रही थी.

इसे भी पढ़ें – भूमि विवाद अंचल अधिकारियों की देन, दर्ज हो केस, IPC के 120B के तहत बनाये जायें अभियुक्त : बंधु तिर्की

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close